रेल यात्रियों के लिए खुशखबरी है कि अब देश के 100 रेलमार्गों पर 150 प्राइवेट ट्रेनें चलाई जा रही हैं। इसी के साथ ही देश में प्राइवेट ट्रेनों के परिचालन का रास्ता साफ हो गया है। भारतीय रेलवे ने 150 प्राइवेट ट्रेनों के परिचालन के लिए 100 रेलमार्गों का चयन किया है और इन मार्गों के लिए बोलियां अगले महीने यानी जनवरी 2020 में आमंत्रित की जा सकती हैं। रेलवे के मुताबिक बीते 19 दिसंबर को वित्त मंत्रालय के अधीन पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप अप्रेजल कमिटी (PPPAC) द्वारा प्रस्ताव को सैद्धांतिक मंजूरी देने के साथ ही निजी ऑपरेटर्स द्वारा ट्रेनों के संचालन का रास्ता साफ हो गया। इस पहल के साथ ही यात्री रेलगाड़ियों के परिचालन में रेलवे की मोनोपॉली भी खत्म हो जाएगी।

इन मार्गों का किया चयन

बताया गया है कि बोली लगाने के लिए कई लंबी दूरी के मार्गों का चयन किया गया है, जिसमें मुंबई-कोलकाता, मुंबई-चेन्नै, मुंबई-गुवाहाटी, नई दिल्ली-मुंबई, तिरूवनंतपुरम-गुवाहाटी, नई दिल्ली-कोलकाता, नई दिल्ली-बेंगलुरु, नई दिल्ली-चेन्नै, कोलकाता-चेन्नै तथा चेन्नै-जोधपुर शामिल हैं। इनके अलावा अन्य प्रमुख मार्गों में मुंबई-वाराणसी, मुंबई-पुणे, मुंबई-लखनऊ, मुंबई-नागपुर, नागपुर-पुणे, सिकंदराबाद-विशाखापट्टनम, पटना-बेंगलुरु, पुणे-पटना, चेन्नै-कोयंबटूर, चेन्नै-सिकंदराबाद, सूरत-वाराणसी तथा भुवनेश्वर-कोलकाता शामिल हैं। इनके अलावा नई दिल्ली से पटना, इलाहाबाद, अमृतसर, चंडीगढ़, कटरा, गोरखपुर, छपरा तथा भागलपुर का भी चयन किया गया है।

35 मार्ग नई दिल्ली से कनेक्ट

इन मार्गों के चयन में वाणिज्यिक व्यवहार्यता पर अधिक ध्यान दिया गया है। 100 मार्गों में से 35 नई दिल्ली से कनेक्ट किए जाएंगे।  जबकि 26 मुंबई से, 12 कोलकाता से, 11 चेन्नै से तथा आठ बेंगलुरु से कनेक्ट किए जा रहे हैं। कुछ अन्य प्रस्तावित गैर महानगर मार्गों में गोरखपुर-लखनऊ, कोटा-जयपुर, चंडीगढ़-लखनऊ, विशाखापट्टनम-तिरुपति तथा नागपुर-पुणे शामिल हैं।

बोली के प्रस्ताव को मंजूरी

रेलवे बोर्ड के चेयरमैन विनोद कुमार यादव के मुताबिक रेलवे प्राइवेट ट्रेनों के लिए मार्गों की पहचान कर रहा है। उन्होंने कहा है कि PPPAC ने 150 ट्रेनों के संचालन के लिए निजी कंपनियों से बोलियां आमंत्रित करने के रेलवे के प्रस्ताव को पहले ही मंजूरी दे चुका है। 10-15 दिनों के भीतर बोलियां आमंत्रित की जा सकती हैं। यह भारतीय रेलवे के लिए मील का पत्थर साबित होगा। उन्होंने कहा है कि प्राइवेट ट्रेनों के परिचालन के साथ ही रेलवे बोर्ड के पुनर्गठन का सरकार का कदम रेलवे के लिए दीर्घावधि में बहुत फायदेमंद होगा।

अब हम twitter पर भी उपलब्ध हैं। ताजा एवं बेहतरीन खबरों के लिए Follow करें हमारा पेज : https://twitter.com/dailynews360