रेल से सफर करने वाले यात्रियों के लिए बहुत ही अच्छी खबर है। क्योंकि अब आपका सफर बेहद आनंदमयी होगा। उत्तर रेलवे ने अपने यात्रियों के लिए रेलगाड़ियों में नए भारत के विचार के साथ एक बड़ा मनोरंजक प्लेटफॉर्म शुरू किया है। दिल्ली, लखनऊ, भोपाल, चंडीगढ़, अमृतसर, अजमेर, देहरादून, कानपुर, वाराणसी, कटड़ा और काठगोदाम की यात्रा के दौरान यात्रियों को शताब्दी और वंदे भारत एक्सप्रेस में परम्परागत रेडियो संगीत का लाभ उठाने का मौका मिलेगा।

यह भी पढ़ें : शाकाहारी और मांसाहारी दोनों की खास पसंद है गुंडरूक, स्वाद ऐसा है कि चखते ही दीवाने हो जाते हैं लोग


उत्तर रेलवे ने रेलयात्रियों को पूर्ण मनोरंजन के साथ यात्रा का मौका दे रहा है। इसके तहत यात्री जिन शहरों की वे यात्रा कर रहे हैं, उनका अनुभव देने के लिए दिल्ली मण्डल की सभी शताब्दी और वंदे भारत ट्रेनों में रेडियो सेवा प्रदान करने के लिए एक अनुबंध किया है। दरअसल, सफर के दौरान संगीत सुनने से सफर का मजा दोगुना हो जाता है। उत्तर रेलवे यात्री उदघोषणा प्रणाली के माध्यम से एक नई तरह के मनोरंजन और आनंद की शुरूआत करेगा, जिसके यात्रियों को संगीत अनुभव और आर.जे. मनोरंजन उपलब्ध कराया जायेगा।

यह भी पढ़ें : कंफ्यूज कर देती है सिक्किम की सेल रोटी, खाने वाले नहीं समझ पाते रोटी या मिठाई, स्वाद है लाजवाब

रेलवे ने बताया कि ये कदम वंदे भारत और शताब्दी ट्रेनों में प्रत्येक यात्री को सुखद यात्रा अनुभव देगा। ट्रेनों में इस तरह के संगीत होने से यात्रियों को जरूर पसंद आयेगी। फिलहाल यह सुविधा 10 शताब्दी और 02 वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेनों में दी जाएगी। इस प्रयास से रेलवे को सालाना 43.20 लाख रुपये का राजस्व मिलेगा। रेलवे ने बताया कि रेडियो सेवाओं के माध्यम से ट्रेनों में मनोरंजन प्रदान करने का यह प्रयास दिल्ली मण्डल के मंडल रेल प्रबंधक डिम्पी गर्ग और वरिष्ठ वाणिज्य प्रबंधक प्रवीण कुमार के दिशा-निर्देश में किया गया है।