अमरीका में भारतीय इंजीनियर की हत्या के करीब 10 दिन बाद एक और भारतीय की हत्या का मामला सामने आया है। भारतीय मूल के कारोबारी हरनिश पटेल की साउथ कैरोलिना स्थित उनके घर के बाहर गोली मारकर हत्या की गई। घटना गुरुवार रात की है।

हरनिश पटेल ने रात करीब 11.24 बजे अपनी दुकान बंद की और घर के लिए निकले। इसके 10 मिनट बाद ही लैंकेस्टर में घर से कुछ ही दूर किसी ने गोली मारकर उनकी हत्या कर दी। गुरुवार रात एक महिला ने फोन कर पुलिस को घटना की जानकारी दी। महिला ने पुलिस को बताया कि उसने चीखने की और गोलियां चलने की आवाज सुनी है। पुलिस जब घटनास्थल पर पहुंची तो उसने हरनिश को उनके घर से कुछ ही दूरी पर मृत पाया। पुलिस हरनिश के हत्यारों को अभी तक खोज नहीं पाई है। मामले की जांच जारी है। कैरोलिना पुलिस के मुताबिक पटेल अपने स्टोर से सिल्वर कलर की मिनीवैन को ड्राइव कर निकले थे। सुरक्षा अधिकारियों का कहना है कि घर के पास ही हमलावर से उनका संघर्ष हुआ था। यह स्टोर उनके घर से 6 किलोमीटर दूर है। स्थानीय मीडिया के मुताबिक हरनिश की हत्या को लेकर लैंकेस्टर के लोगों में काफी नाराजगी है। हरनिश की दुकान शहर के शेरिफ दफ्तर के पास ही थी। उनके परिवार में अब पत्नी और एक छोटा बच्चा है। हरनिश को श्रद्धांजलि देने के लिए  लोग उनकी दुकान के बाहर बलून्स और फूल छोड़कर जा रहे हैं। इनमें भारतीय मूल के लोगों के अलावा बड़ी संख्या में अमरीकी भी शामिल हैं। दुकान पर एक पोस्टर भी लगा हुआ है,जिस पर लिखा है,परिवार में आपातकालीन स्थिति के कारण दुकान कुछ दिन के लिए बंद है। असुविधान के लिए खेद है। 22 फरवरी को कंसास में एक श्वेत नागरिक ने बार में बहस के बाद श्रीनिवास कूचिभोतला और उनके दोस्त आलोक मदासानी को गोली मार दी थी।। श्रीनिवास की मौत हो गई थी जबकि आलोक गंभीर रूप से घायल हुए धे। आरोपी ने दोनों को आतंकी कहते हुए कहा था,मेरे देश से चले जाओ। न्यूयॉर्क में रहने वाली भारतीय मूल की युवती एकता देसाई ने फेसबुक पोस्ट में अपने साथ ट्रेन यात्रा के दौरान नस्लीय दुव्र्यवहार की शिकायत की है। एकता ने एक वीडियो भी पोस्ट किया जिसमें एक श्वेत अमरीकी नागरिक उन्हें नस्लीय गालियां देते हुए दिख रहा है। जिस समय यह घटना हुई उस वक्त ट्रेन में कई लोग मौजूद थे लेकिन कोई भी एकता की मदद के लिए आगे नहीं आया। एकता की यह पोस्ट सोशल मीडिया पर वायरल हुई है। इसी हफ्ते अमरीकी कांग्रेस के संयुक्त सत्र को संबोधित करते हुए अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने हेट क्राइम्स की निंदा करते हुए भारतीय इंजीनियर श्रीनिवास कूचिभोतला की हत्या पर खेद जताया था। ट्रंप ने हाल के दिनों में यहूदी केन्द्रो पर हुए हमलों की भी आलोचना की थी। स्थानीय लोगों का कहना है कि यह नस्लीय नफरत के कारण हुई हिंसा का मामला नहीं लग रहा है। काउंटी प्रमुख बैरी फेले ने कहा,इसे नस्लीय भावना से जुड़ा मामला मानने की मेरे पास कोई वजह नहीं है।