मेघालय उच्च न्यायालय द्वारा ‘द शिलांग टाइम्स’ के संपादक और प्रकाशक को अवमानना मामले में दोषी ठहराए जाने के बाद ‘इंडियन न्यूजपेपर्स सोसायटी’ (आईएनएस) ने संबंधित अपील में पक्ष बनने का फैसला किया है। उच्चतम न्यायालय ने शुक्रवार को ‘द शिलांग टाइम्स’ की संपादक पैट्रशिया मुखिम और प्रकाशक शोभा चौधरी को दोषी ठहराने वाले मेघालय उच्च न्यायालय के फैसले पर रोक लगा दी।

 प्रिंट मीडिया के शीर्ष निकाय आईएनएस ने एक बयान में कहा कि कार्यकारी समिति की यहां बैठक हुई, जिसमें इस मामले में विस्तार से चर्चा की गयी। बैठक में सर्वसम्मति से फैसला किया गया कि आईएनएस को अपील में पक्ष बनना चाहिए। अवमानना के मामले में फैसला सुनाते हुए उच्च न्यायालय ने आठ मार्च को दोनों से कहा था कि वह अदालत कक्ष में एक कोने में बैठकर कार्यवाही पूरी होने तक सजा काटें। अदालत ने दोनों पर दो-दो लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया था। अदालत ने यह भी कहा था कि जुर्माना नहीं चुकाने की स्थिति में दोनों को छह महीने कारावास की सजा काटनी होगी और अखबार पर प्रतिबंध लगा दिया जाएगा।