भारत के 75वें स्वतंत्रता दिवस की तैयारियां देशभर में जोरों पर चल रही हैं। जम्मू-कश्मीर में भी इस बार ऐतिहासिक दिवस के लिए तमाम कार्यक्रमों का आयोजन किया जाएगा। इसी कड़ी में गुलमर्ग में सेना के जवानों ने 100 फीट ऊंचा तिरंगा फहराया है। खास बात ये है कि गुलमर्ग में इस 100 फीट ऊंचे तिरंगे को लहराने के पीछे एक मकसद भी है। 

दरअसल, गुलमर्ग में फहराया गया यह तिरंगा रिकॉर्ड समय में बनकर तैयार हुआ है। यह तिरंगा देश को एकता के सूत्र में बांधे रखने का संदेश देगा। गुलमर्ग में स्थानीय नागरिकों के अलावा देश और दुनिया भर से पर्यटक आते हैं। यहां लोग तिरंगे के साथ तस्वीरें एवं सेल्फी ले सकेंगे। मंगलवार को आयोजित एक समारोह के दौरान यह राष्ट्रीय ध्वज फहराया गया है। 

सेना के अधिकारियों की तरफ से दी गई जानकारी के मुताबिक, समारोह की अध्यक्षता सेना कमांडर, उत्तरी कमान, लेफ्टिनेंट जनरल जोशी ने की है। इस दौरान उन्होंने राष्ट्र की सेवा में सर्वोच्च बलिदान देने वाले सैनिकों के परिजनों को सम्मानित भी किया। सेना कमांडर ने समाज के कुछ सदस्यों को भी सम्मानित किया जिन्होंने विभिन्न प्रयासों के माध्यम से राष्ट्र निर्माण में योगदान दिया है।

गुलमर्ग के सुंदर परिवेश के बीच फहराए गए तिरंगे से पर्यटकों के आकर्षण में इजाफा होगा। समारोह के दौरान, सेना कमांडर ने कहा यह तिरंगा उन अनगिनत कश्मीरियों को श्रद्धांजलि है, जिन्होंने राष्ट्र की एकता और अखंडता की रक्षा करते हुए अंतिम बलिदान दिया है।

बता दें कि गुलमर्ग एक पर्यटन इलाका है। इस तिरंगे को वहां लगाने का काम भारतीय सेना के सहयोग से ही पूरा किया गया है। इसकी शुरुआत कुछ समय पहले की गई थी, जबकि यह तिरंगा मंगलवार को राष्ट्र को समर्पित किया गया है।