सेना प्रमुख बिपिन रावत सिक्किम में सीमा पर भारतीय तथा चीनी सैनिकों के बीच गतिरोध के बीच सुरक्षा हालात का जायजा लेने के लिए गुरुवार को यहां पहुंचे।

सूत्रों के मुताबिक, सेना प्रमुख सुरक्षा हालात का जायजा लेंगे और सीमाई इलाकों का दौरा कर सकते हैं।

सिक्किम सेक्टर में चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) के सैनिकों ने वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) का उल्लंघन किया है और डोका ला क्षेत्र के लालटेन इलाके में इस महीने की शुरुआत में भारत के दो अस्थायी बंकरों को नष्ट कर दिया।

चीन के रक्षा मंत्रालय ने सीमा पर झड़प की पुष्टि की, लेकिन उसने अपने क्षेत्र में सड़क निर्माण कार्य को रोकने के लिए भारतीय सैनिकों पर सीमा के उल्लंघन का आरोप लगाया। इस घटना पर रक्षा मंत्रालय तथा सेना ने अभी तक कोई टिप्पणी नहीं की है।

डोका ला चुंबी घाटी में स्थित है और जिस इलाके में घुसपैठ हुई है वह पूर्वोत्तर भारत को जोडऩे वाले रेल तथा सड़क गलियारे से ज्यादा दूर नहीं है।

साथ ही, उस इलाके के निकट चीन व भूटान के बीच लंबे समय से सीमा विवाद है। यहां सीमा के निकट चीन वर्तमान में एक रेल लाइन का निर्माण कर रहा है।

रक्षा मंत्रालय लंबे समय से इस बात को दोहराता आ रहा है कि भारत-चीन सीमा पर चीनी सैनिकों ने किसी तरह का उल्लंघन नहीं किया है और मुद्दा सीमांकन न होने के कारण गलतफहमी का है।

सीमा पर दोनों देशों के सैनिकों का आमना-सामना होने की प्रतिक्रिया में चीन ने कैलाश मानसरोवर की यात्रा करने वाले 50 तीर्थयात्रियों के जत्थे को यात्रा जारी रखने की अनुमति देने से इनकार कर दिया। तीर्थयात्री नाथुला दर्रा से होते हुए मानसरोवर जाने वाले थे।

यह घटनाक्रम बीजिंग में आयोजित वन बेल्ट वन रोड परियोजना का भारत द्वारा बहिष्कार करने तथा परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह (एनएसजी) में भारत के दाखिल होने के प्रयास को चीन द्वारा नाकाम किए जाने के बीच हुआ है।