भारतीय वायुसेना की ताकत में और इजाफा होना वाला है, क्योंकि इसी महीने फ्रांस से 6 और राफेल विमान आने वाले हैं। भारतीय वायु सेना के प्रमुख एयर चीफ मार्शल राकेश भदौरिया फ्रांस की यात्रा पर जा रहे हैं, जहां से वह 6  राफेल लड़ाकू विमानों को भारत रवाना करेंगे।

 फ्रांस यात्रा के दौरान राकेश भदौरिया 21 अप्रैल को दक्षिण-पश्चिमी फ्रांस के मरिग्नैक-बोर्डो एयरबेस से छह राफेल लड़ाकू विमानों को हरी झंडी दिखाकर भारत के लिए रवाना करेंगे। ये लड़ाकू जेट पश्चिम बंगाल के हासिमारा में दूसरे राफेल स्क्वाड्रन को सक्रिय करने के लिए मंच तैयार करेेंगे।

बता दें कि भारतीय वायुसेना प्रमुख 20 अप्रैल से फ्रांस का दौरा करने वाले हैं, और 23 अप्रैल तक वह फ्रांस में रहेंगे। छह राफेल विमान पहले 28 अप्रैल को भारत के लिए उड़ान भरने वाले थे, लेकिन एयर चीफ मार्शल भदौरिया के यात्रा के आयोजन के बाद इसे एक सप्ताह पहले रख लिया गया।

फ्रांस यात्रा के दौरान, एयर चीफ भदौरिया एक फ्रांसीसी राफेल स्क्वाड्रन का दौरा करेंगे,  इसके अलावा वह अपने समकक्ष फिलिप लेविने से मुलाकात करेंगे और पेरिस में नव-स्थापित अंतरिक्ष कमान का दौरा भी करेंगे।

भारतीय वायुसेना के प्रमुख राकेश भदौरिया द्वारा हरी झंडी दिखाकर भेजे गए राफेल जेट विमानों के आगमन से भारतीय वायु सेना में राफेल जेट विमानों की संख्या बढ़ जाएगी। इन विमानों के आने बाद वायुसेना को 18 विमानों के साथ अंबाला में 117 गोल्डन एरो स्क्वाड्रन को पूरा करने और 2 चौथे पीढ़ी के प्लस-फाइटर जेट के साथ दूसरा स्क्वाड्रन शुरू करने में सक्षम होगी।

वायु सेना के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, "छह लड़ाकू विमान अंबाला एयरबेस के लिए उड़ान भरेंगे, जहां से लड़ाकू विमानों को हसीमारा में एक दूसरे स्क्वाड्रन के गठन के लिए फिर से तैयार किया जाएगा।"