भारत 15 दिसंबर से निर्धारित अंतरराष्ट्रीय उड़ानें (international flights) फिर से शुरू करेगा, नागरिक उड्डयन मंत्रालय (ministry of civil aviation) ने शुक्रवार शाम को कहा कि मामले की समीक्षा की गई है और सक्षम प्राधिकारी" ने ऐसी उड़ानों को फिर से शुरू करने का फैसला किया है. मंत्रालय ने कहा, 'भारत के लिए और भारत से शिड्यूल्ड कमर्शियल अंतरराष्ट्रीय यात्री सेवाओं को फिर से शुरू करने की जांच गृह मंत्रालय, विदेश और स्वास्थ्य मंत्रालय के परामर्श से की गई है और यह निर्णय लिया गया है कि 15 दिसंबर से फिर से शुरू किया जाएगा. नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने कहा, 15 दिसंबर से विदेश के लिए कमर्शियल फ्लाइट सेवा शुरू होगी. हालांकि जोखिम वाली श्रेणी वाले देशों के साथ सीमित सेवाएं रहेंगी.

जो देश जोखिम वाली कैटेगरी में हैं और उनसे एयर बबल समझौता है वहां के लिए सीमित सेवाएं रहेंगी. ऐसे देशों में कोरोना से पहले उड़ान भरने वाली हवाई सेवा का 75% परिचालन होगा या हर हफ्ते 7 उड़ान  से कम बहाल हो सकेंगी. जोखिम श्रेणी वाले 14 देश हैं. इनमें ब्रिटेन समेत यूरोप, दक्षिण अफ्रीका, ब्राजील, बांग्लादेश, बोत्सवाना, चीन, मॉरीशस, न्यूजीलैंड, जिम्बाब्वे, सिंगापुर, हांगकांग औऱ इजरायल शामिल हैं.

दरअसल, कोरोना (Corona) के चलते सरकार ने प्रत्यावर्तन सेवाओं और आवश्यक सामानों को ले जाने वाली उड़ानों को छोड़कर पिछले साल मार्च में सभी शिड्यूल्ड इंटरनेशनल फ्लाइट्स को निलंबित कर दिया था. वहीं अब कोरोना की रफ्तार धीमी पड़ने के साथ ही प्रतिबंधों में धीरे-धीरे ढील दी गई है. ‘द्विपक्षीय ‘एयर बबल‘ एग्रीमेंट के तहत कई देशों में फिर से फ्लाइट शुरू की जाएंगी. भारत में फिलहाल ऐसे 25 एग्रीमेंट हैं. इन एग्रीमेंटों के तहत, कुछ शर्तों के साथ इंटरनेशनल फ्लाइट्स लोगों को संबंधित देशों में ट्रैवल करा सकती हैं.