लॉड्र्स में दूसरे टेस्ट में 151 रन की शानदार जीत हासिल कर चुकी टीम इंडिया बुधवार से यहां हेडिंग्ले में शुरू होने वाले तीसरे क्रिकेट टेस्ट में अपनी बढ़त मजबूत करने के इरादे से उतरेगी। भारत ने इस मैदान में अपना आखिरी टेस्ट अगस्त 2002 में खेला था और उसे पारी और 46 रन से जीता था। इससे पहले भारत ने जून 1986 में इंग्लैंड को इस मैदान में 279 रन से हराया था। 

भारत इस रिकॉर्ड को देखते हुए लीड्स में अपनी बढ़त को 2-0 करने की उम्मीद कर सकता है। दूसरी तरफ इंग्लैंड ने इस मैदान पर अपने पिछले दो टेस्टों में पाकिस्तान को पारी और 55 रन से तथा ऑस्ट्रेलिया को एक विकेट से हराया है। इंग्लैंड इस रिकॉर्ड को देखते हुए सीरीज में वापसी की उम्मीद कर सकता है, लेकिन भारत ने लॉड्र्स के ऐतिहासिक मैदान में पांचवें और आखिरी दिन इंग्लैंड को 120 रन पर ढेर करने जैसा जो प्रदर्शन किया था, उसे देखते हुए भारत का तीसरे टेस्ट में भी पलड़ा भारी माना जा सकता है। 

भारत के चारों तेज गेंदबाजों ने वाकई हैरतअंगेज गेंदबाजी की थी और इंग्लैंड के बल्लेबाजों को टिकने का ज्यादा मौका नहीं दिया था। इस साल अप्रैल में बर्फीले तूफान ने हेडिंग्ले के मैदान को पूरी तरह ढक दिया था और ग्लेमोर्गन तथा यॉर्कशायर के बीच काउंटी मैच ड्रा समाप्त हुआ था। भारत ने इस मैदान पर खेले अपने पहले तीनों टेस्ट गंवाए थे लेकिन चौथा टेस्ट ड्रा खेला था। इसके बाद भारत ने अगले दोनों टेस्टों में जीत हासिल की। भारत हेडिंग्ले मैदान में सातवीं बार खेलने उतरेगा, भारत ने आखिरी बार हेडिंग्ले में पारी और 46 रन से जो जीत हासिल की थी उसमें राहुल द्रविड़, सचिन तेंदुलकर और सौरभ गांगुली के शतक शामिल थे। सचिन इस मैच में 193 रन पर आउट होकर दोहरे शतक से चूक गए थे।

 गेंदबाजी में लेग स्पिनर अनिल कुंबले ने पहली पारी में तीन और दूसरी पारी में चार विकेट लेकर भारत को सबसे यादगार जीत दिलाई थी। भारत को लॉड्र्स में उसके मैच विजयी प्रदर्शन में दूसरी पारी में उसके शीर्ष तीन बल्लेबाजों रोहित शर्मा, लोकेश राहुल और कप्तान विराट कोहली की विफलता चिंता का विषय है , हालांकि चेतेश्वर पुजारा और अजिंक्या रहाणे की दूसरी पारी में फॉर्म में वापसी टीम इंडिया के लिए कुछ राहत की बात है। विराट अपनी टेस्ट कप्तानी का लोहा मनवाने में लगे हुए हैं। उन्होंने लॉड्र्स की जीत के साथ अपनी 37 वीं जीत हासिल की और वेस्ट इंडीज के दिग्गज कप्तान क्लाइव लॉयड से आगे निकल गए। लॉयड ने 74 मैचों में कप्तानी की और 36 मैच जीते। विराट इस समय भारत के सबसे सफल और टेस्ट इतिहास के चौथे सबसे सफल कप्तान हैं। भारत लीड्स में तीसरे टेस्ट के लिए अपनी एकादश में कोई बड़ा परिवर्तन नहीं करने जा रहा। हालांकि इंग्लैंड के लिए लॉड्र्स की हार के बाद बल्लेबाजी क्रम में कप्तान जो रुट पर अत्यधिक निर्भरता उसके लिए चिंता का विषय है। इंग्लैंड के तेज गेंदबाज मार्क वुड कंधे की चोट के कारण तीसरे टेस्ट से बाहर हो गए हैं। उनकी जगह साकिब महमूद को मिलने की पूरी उम्मीद है। इंग्लैंड को लीड्स में बराबरी पर आने के लिए अपना सब कुछ दांव पर लगाना होगा जबकि भारत लीड्स में अपने पिछले अच्छे प्रदर्शन को दोहराने की कोशिश करेगा।