कालाधन रखने वालों के लिए बुरी खबर है। स्विटजरलैंड इस महीने स्विस बैंक में खाता रखने वाले भारतीयों की जानकारी भारत को सौंपेगा। ऑटोमेटिक एक्सचेंज ऑफ इंफॉर्मेशन के तहत भारतीय नागरिकों के बैंक खाते के डिटेल वाले डाटा की तीसरी किस्त भारत को मिलेगा। 

इसमें पहली बार विदेश में भारतीय नागरिकों के स्वामित्व वाली अचल संपत्ति का विवरण भी शामिल होगा। स्विटरजरलैंड तीसरी बार भारत के साथ डाटा साझा करेगा। इससे पहले वह सितंबर 2019 और सितंबर 2020 में ऐसी ही जानकारी साझा कर चुका है। विदेश में जमा कालेधन के खिलाफ भारत सरकार की लड़ाई में यह एक महत्वपूर्ण कदम है। भारत को सितंबर में स्विटजरलैंड में भारतीयों के फ्लैट, अपार्टमेंट और ज्वाइंट ओनरशिप वाली रियल इस्टेट संपत्तियों की भी पूरी जानकारी मिलेगी। 

साथ ही ऐसी संपत्तियों से होने वाली कमाई की भी जानकारी मिलेगी। इससे देश को उन संपत्तियों से जुड़ी कर देनदारियों पर ध्यान देने में मदद मिलेगी। यह तीसरा मौका होगा जब भारत को स्विट्जरलैंड में भारतीयों के बैंक खातों और अन्य संपत्तियों के बारे में विवरण मिलेगा। लेकिन, यह पहली बार होगा जब भारत के साथ साझा की जा रही जानकारी में अचल संपत्ति की जानकारी शामिल होगी