अफगानिस्तान और तालिबान में इन दिनों भीषण जंग चल रही है। इस बीच तालिबानी आतंकी अफगान शहर मजार-ए-शरीफ तक पहुंच गए हैं। ऐसे में भारत ने मजार-ए-शरीफ में सक्रिय अपने एकमात्र महावाणिज्‍य दूतावास से भी कर्मचारियों और कुछ भारतीय नागरिकों को निकालने का फैसला किया है।

इसके लिए भारत वायुसेना के विशेष विमान को मजार-ए-शरीफ भेजेगा। भारतीय वाणिज्‍य दूतावास ने एक ट्वीट करके मजार-ए-शरीफ और उसके आसपास मौजूद भारतीय नागरिकों से अपील की है कि वे इस विशेष विमान में सवार होकर वहां निकल जाएं। वाणिज्‍य दूतावास ने कहा कि यह विशेष विमान आज शाम को मजार-ए-शरीफ से नई दिल्‍ली को जाएगा। भारतीय नागरिकों से कहा गया है कि जो लोग वहां से निकलना चाहते हैं, वे अपनी सारी डिटेल भेज दें। इससे पहले भारत ने अफगानिस्‍तान में सक्रिय कई महावाणिज्‍य दूतावासों में तैनात कर्मचारियों को निकाल लिया था। हालांकि मजार-ए-शरीफ में भारतीय अभी बने हुए थे। अब ताजा हिंसा के बाद भारत वहां से भी अपने राजनयिकों को निकाल रहा है।


इस बीच सूत्रों ने स्‍पष्‍ट किया है कि काबुल में भारतीय दूतावास में कर्मचारी अभी बने रहेंगे। अफगानिस्‍तान से अमेरिकी सेनाओं की वापसी के बाद तालिबान ने भीषण हमले शुरू कर दिए हैं और देश के ज्‍यादातर हिस्‍सों पर अब उसका कब्‍जा हो गया है। यही नहीं तालिबान ने देश के 6 प्रांतों की राजधानियों पर कब्‍जा कर लिया है। अब ये आतंकी मजार-ए-शरीफ की ओर बढ़ रहे हैं। तालिबान ने सोमवार को देश के उत्‍तरी इलाके के सबसे बड़े शहर मजार-ए-शरीफ की ओर हमले करना शुरू कर दिया। तालिबान ने एक बयान जारी करके कहा है कि उसने चारों ओर से मजार-ए-शरीफ पर हमला शुरू किया है। इस बीच मजार-ए-शरीफ के लोगों का कहना है कि ताल‍िबान बढ़ा-चढ़ाकर दावा कर रहा है। माना जा रहा है कि इसके जरिए तालिबान दुष्‍प्रचार कर रहा है ताकि लोग डर जाएं।