हाल ही में सोशल मीडिया कुछ मीम्स चले थे जिसमें रूस के राष्ट्रपति पुतिन पीएम मोदी से कहते हुए दिखाए गए थे कि लगे हाथ 2-4 मिसाइलें गिरागर पाकिस्तान को निपटा दो। इसके बाद अगर कोई पूछे तो कह देना कि रूस की मिसाइल यूक्रेन से टप्पा खाकर पाकिस्तान में गिरी है। अब बात सच भी साबित हो गई जिसको लेकर पाकिस्तान दहशत में आ गया है।

यह भी पढ़ें : धांसू बाइक चलाते हैं अरूणाचल प्रदेश के CM Pema Khandu, देखें तस्वीरें

दरअसल, भारत की एक मिसाइल पाकिस्तान पंजाब के मियां चन्नू शहर में 9 मार्च को अचानक जा गिरी थी। इस पर पाकिस्तान ने अपनी आपत्ति जाहिर की थी और भारत ने इस गंभीर मसले की उच्च स्तरीय जांच का आदेश दे दिया है। इस बीच रक्षा मंत्रालय की ओर से जारी एक बयान में बताया गया है कि मिसाइल में एक तकनीकी खामी थी, जिसके चलते ऐसा हुआ। यह हादसा उस वक्त हुआ, जब मिसाइल का रूटीन मेंटनेंस किया जा रहा था, लेकिन तकनीकी खामी के चलते उसने अचानक उड़ान भरी और पाकिस्तानी में जा गिरी। इस घटना पर रक्षा मंत्रालय ने गहरा दुख जताया है। 

मंत्रालय ने कहा कि इस घटना की जांच के लिए हाई लेवल कोर्ट ऑफ इन्क्वायरी का गठन कर दिया है। डिफेंस मिनिस्ट्री ने कहा, '9 मार्च को मिसाइल के रूटीन मेंटनेंस के दौरान टेक्निकल खामी के चलते मिसाइल अचानक फायर हो गई। भारत ने इस मसले को गंभीरता से लिया है और उच्च स्तरीय जांच के आदेश दिए हैं। यह पता चला है कि यह मिसाइल पाकिस्तान में जाकर गिरी। यह दुखद घटना है, लेकिन राहत की बात यह रही कि इसमें किसी की भी मौत नहीं हुई।' पूरे मामले की जानकारी रखने वाले लोगों का कहना है कि सरकार इस मामले में सभी पहलुओं की जांच करने वाली है।

यह भी पढ़ें : रूस-यूक्रेन छोड़ो, भारतीयों को देश के ही इस राज्य में जाने के लिए लेना पड़ता है वीजा, जानिए क्यों

इस घटना के बाद पाकिस्तान ने शुक्रवार को इस्लामाबाद में भारतीय राजदूत को तलब किया था और अपने इलाके में मिसाइल गिरने पर आपत्ति जाहिर की थी। विदेश मंत्रालय के मुताबिक 9 मार्च को शाम 6:43 बजे अचानक यह मिसाइल फायर हुई थी और 6:50 पर पाकिस्तानी पंजाब के मियां चन्नू शहर के पास एक मैदान में जाकर गिरी।

पाकिस्तान ने दावा किया कि एक निहत्थे भारतीय सुपरसोनिक मिसाइल ने सिरसा से उड़ान भरी और बुधवार शाम को पाकिस्तानी क्षेत्र में 124 किलोमीटर की दूरी पर उतरी। यह कहा गया है कि मिसाइल, 40,000 फीट की ऊंचाई पर मंडरा रही थी और भारतीय और पाकिस्तानी दोनों हवाई क्षेत्र में यात्री उड़ानों और जमीन पर नागरिकों और संपत्ति को भी खतरे में डाल रही थी।