भारत के पड़ोसी दुश्मन देश पाकिस्तान की अब खैर नहीं है। क्योंकि भारत ने सबसे खतरनाक मिसाल लॉन्च कर दी है जो सफल रही है। यह मिसाल रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) वायु सेना और ब्रह्मोस की है जिन्होंने सुपरसोनिक ब्रह्मोस क्रूज मिसाइल का जमीन और हवा से अलग-अलग सफल परीक्षण किया। यह परीक्षण सफल रहा है।

सुखोई विमान से परीक्षण सफल

रक्षा मंत्रालय के अनुसार पहला परीक्षण जमीन पर स्थित मोबाइल लांचर से किया गया। इस लांचर के मिसाइल एयरफ्रेम, ईंधन प्रबंधन सिस्टम और सीकर सहित ज्यादातर उपकरण देश में ही बनाये गये थे। दूसरा परीक्षण वायु सेना ने अपने लड़ाकू विमानों के बेड़े के प्रमुख विमान सुखोई 30 से किया जिसके जरिये समुद्र में स्थित लक्ष्य को भेदा गया। इस परीक्षण से ब्रह्मोस की समुद्र में तैनात युद्धपोत को निशाना बनाने की क्षमता की पुष्टि की गयी। वायु सेना ने गत मई में निकोबार द्वीप समूह में जमीन पर स्थित लक्ष्य को भेदने में सफलता हासिल की थी।

सफलता की दी बधाई

डीआरडीओ के अध्यक्ष डा जी सतीश रेड्डी ने डीआरडीओ, ब्रह्मोस और वायु सेना को इन परीक्षणों की सफलता पर बधाई दी है। परीक्षण ब्रह्मोस के महानिदेशक डा सुधीर मिश्रा, डीआरडीओ की प्रयोगशाला के निदेशक डा दशरथ राम और एकीकृत परीक्षण रेंज के निदेशक विनय कुमार दास की मौजूदगी में किये गये।

अब हम twitter पर भी उपलब्ध हैं। ताजा एवं बेहतरीन खबरों के लिए Follow करें हमारा पेज : https://twitter.com/dailynews360