विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची (Foreign Ministry spokesperson Arindam Bagchi) ने ट्वीट किया कि पांच और देश भारत के टीकाकरण प्रमाण पत्र (Recognize India's vaccination certificates) को मान्यता देते हैं, जिसमें एस्टोनिया, किर्गिस्तान, फिलिस्तीन राज्य, मॉरीशस और मंगोलिया शामिल हैं.  इन देशों में भारत में वैक्सीनेशन के बाद यात्रा कर सकेंगे.  वहीं आस्ट्रेलियाई सरकार ने भारत बायोटेक (Australian government has approved Bharat Biotech's corona vaccine) की कोरोना वैक्सीन कोवैक्सीन को मान्यता दे दी है.

भारत में आस्ट्रेलिया के उच्चायुक्त बैरी ओफेरेल एओ ने इसकी जानकारी दी है.  उनके मुताबिक, आस्ट्रेलियाई सरकार ने यात्रियों के टीकाकरण (Australian government has approved Bharat Biotech's Covaccine) स्टेटस के उद्देश्य से भारत बायोटेक की कोवैक्सीन को मान्यता दे दी है.  इसका मतलब हुआ कि अब कोई भी यात्री जिसने कोवैक्सीन की डोल ली तो वह आस्ट्रेलिया की यात्रा कर सकता है. 

ज्ञात हो कि आस्ट्रेलिया और पांच अन्य देशों के अलावा दुनिया के 30 से अधिक देशों से भारत के वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट को मान्यता दी है.  इन देशों में जर्मनी, फ्रांस, नेपाल, बेलारूस, आर्मेनिया, लेबनान, यूक्रेन, बेल्जियम, हंगरी और सर्बिया शामिल हैं.  इससे पहले विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने अक्टूबर माह में कहा था जिन देशों ने भारत के टीकाकरण को मान्यता दी है, उन देशों में प्रवेश के लिए भारतीय यात्रियों को वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट दिखाना होगा और जाने का मकसद भी बताना होगा. 

भारत दुनिया को पांच अरब कोविड वैक्सीन डोज देने को तैयार (India ready to give five billion Kovid vaccine doses to the world) 

रोम में आयोजित जी20 शिखर सम्मेलन में पीएम मोदी (PM Modi) ने रेखांकित किया कि भारत ने एक अरब खुराक दी है.  बताया कि भारत अगले साल के अंत तक दुनिया को महामारी के खिलाफ लड़ाई में मदद करने के लिए पांच अरब से अधिक कोविड वैक्सीन डोज का उत्पादन करने के लिए तैयार है.  विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला ने प्रधानमंत्री का हवाला देते हुए कहा कि वैक्सीन की खुराक बड़े पैमाने पर दुनिया को उपलब्ध कराई जाएगी.  साथ ही कहा कि हम ये भी मानते हैं कि कोवैक्सीन के लिए डब्ल्यूएसओ का आपातकालीन उपयोग प्राधिकरण अन्य देशों की सहायता करने की इस प्रक्रिया को सम्मानित करेगा. 

वैक्सीनेशन अभियान हर घर दस्तक होगा शुरू

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने कहा था कि केंद्र सरकार एक मेगा वैक्सीनेशन अभियान हर घर दस्तक शुरू करने जा रही है.  कोविड टास्क फोर्स के चीफ वीके पॉल ने हाल ही में इस बात पर भी खुशी जाहिर की कि भारत में वैक्सीन की कोई कमी नहीं है.