केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री मनसुख मांडविया ने कहा है कि भारत सभी देशों को कोविड टीके आपूर्ति के लिए तैयार है। मांडविया ने गुरुवार को यहां लैटिन अमेरिका और कैरेबियाई राष्ट्रों के राजदूतों के साथ बातचीत करते हुए कहा कि भारत ने कोरोना महामारी के दौरान 'वैक्सीन मैत्री' के तहत सभी देशों के साथ सहयोग किया। 

उन्होंने कहा, 'वर्तमान में भारत सभी देशों को कोविशील्ड और कोवैक्सिन की आपूर्ति करने के लिए तैयार है।' उन्होंने कहा कि भारत की स्वास्थ्य सेवा में एक क्रांतिकारी परिवर्तन देखा जा रहा है जिसे जिसे अन्य देश अपना सकते हैं। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि भविष्य में महामारी के प्रकोप से लडऩे के लिए सार्वजनिक स्वास्थ्य प्रणाली को मजबूत करने की आवश्यकता है। 

उन्होंने कहा कि भारत में कोविड टीकाकरण में छह टीके स्वीकृत हैं जिनमें से दो स्वदेशी रूप से विकसित हैं। देश में 82 प्रतिशत भारतीयों को टीके की कम से कम एक खुराक दी जा चुकी है। इसके अलावा 44 प्रतिशत भारतीयों को पूरी तरह से टीका लगाया जा चुका है। उन्होंने बताया कि भारत में टीकाकरण को वर्तमान में 110 देशों से मान्यता प्राप्त है। 

उन्होंने कहा, 'टीकाकरणों की पारस्परिक मान्यता से पर्यटन और व्यवसाय के लिए यात्रा में आसानी होती है, जिससे आर्थिक सुधार को बढ़ावा मिलता है, जिसकी दुनिया को सख्त जरूरत है।' इस कार्यक्रम की अध्यक्षता पराग्वे के राजदूत फ्लेमिंग डुआर्टे ने की। चिली के राजदूत, जुआन अंगुलो, मेक्सिको के राजदूत, फ़ेडेरिको सालास, कोलंबिया के राजदूत, मारियाना पाचेको ने भी बैठक में भाग लिया।