इंडियन रेलवे ने ट्रेनों में इकोनॉमी थर्ड AC क्लास की सुविधा शुरू की है। इसे AC-3 टियर इकोनॉमी कोच भी कहते हैं। ट्रेन में फर्स्ट AC, सेकेंड AC और थर्ड AC या स्लीपर जैसे कोच होते हैं। लेकिन अब थर्ड AC की तरह AC-3 इकोनॉमी के कोच भी जोड़े जाने लगे हैं। 

भारतीय रेलवे AC-3 इकोनॉमी कोच का संचालन साल 2021 करने लगा है। ये थर्ड AC की तरह ही है। इसका मकसद आम लोग भी किफायती दर पर आरामदेह यात्रा की सुविधा देना है, ताकि इससे स्लीपर क्लास के लोग भी AC डिब्बों की तरफ आकर्षित हों।

यह भी पढ़ें : शाकाहारी और मांसाहारी दोनों की खास पसंद है गुंडरूक, स्वाद ऐसा है कि चखते ही दीवाने हो जाते हैं लोग

ये थर्ड AC की तरह ही कोच है और जो सुविधाएं थर्ड AC में यात्रियों को दी जाती है, वो ही सुविधाएं इस कोच में दी जाती है। जिस ट्रेन में AC-3 कोच होते हैं, उसमें इकोनॉमी कोच नहीं होते हैं यानी एक तरह से यह थर्ड AC को रिप्लेस किए गए हैं।

अब सवाल और कंफ्यूजन यही है कि जब ये थर्ड एसी की तरह है, तो फिर दोनों में अंतर क्या है? बता दें, एसी-3 इकोनॉमी कोच नए हैं और आधुनिक सुविधाओं को इसमें शामिल किया गया है। इसको डिजाइन भी पहले की तुलना में बेहतर और अलग तरीके से किया गया है।

यह भी पढ़ें : सिक्किम में बिना तेल के बनाया जाता है लजीज फग्शापा मीट, पूरी दुनिया में मशहूर है ये होटल

दरअसल, AC-3 इकोनॉमी नाम AC-3 के नए डिब्बों को दिए गए हैं। आपने देखा होगा कि थर्ड AC में 72 सीटें होती हैं, लेकिन AC-3 एकोनॉमी में इससे 11 सीट ज्यादा होती हैं। इसमें 83 सीटें होती हैं।

इसके अलावा AC- 3 इकोनॉमी कोच के इंटीरियर डिजाइन में जबरदस्त बदलाव किया गया है। हर सीट के यात्री के लिए AC डक अलग अलग लगाया गया है। इसके साथ हर सीट के लिए बोतल स्टैंड, रीडिंग लाइट और चार्जिंग की व्यवस्था की गई है। जो कि थर्ड एसी में उस तरह से नहीं मिलतीं। अब तक ये कोच 8 ट्रेनों में लगाए गए हैं।