भारत में भी अब बच्चों को कोरोना वायरस का टीका लगाया जाएगा। जायडस कैडिला की तीन खुराक वाली कोविड वैक्सीन ZyCoV-D को इस महीने राष्ट्रीय एंटी-कोरोनावायरस टीकाकरण कार्यक्रम में शामिल किया जाएगा। जिससे भारत में अब बच्चों को भी कोरोना का टीका जल्द लग सकेगा। सरकार ने अहमदाबाद की कंपनी जायडस कैडिला (Zydus Cadila) को इस वैक्सीन की एक करोड़ डोज का ऑर्डर दिया है।

स्वास्थ्य मंत्रालय ने देश में ही विकसित दुनिया की पहली डीएनए-आधारित कोविड वैक्सीन की शुरुआत के लिए प्रारंभिक कार्य शुरू करने की मंजूरी दे दी है। ZyCoV-D भारत के दवा नियामक द्वारा 12 वर्ष और उससे ज़्यादा की उम्र के लोगों के लिए स्वीकृत की गई पहली वैक्सीन है।

केंद्र सरकार ने ZyCoV-D की एक करोड़ खुराक के लिए जायडस कैडिला को ऑडर दिया है। इसकी एक खुराक की कीमत करीब 358 रुपये है, जिसमें टैक्स शामिल नहीं है। इस कीमत में एक डिस्पोजेबल जेट एप्लीकेटर की कीमत भी शामिल है, जिसकी मदद से ये टीका लगाया जाता है। सीमित उत्पादन क्षमता के कारण, शुरुआत में यह टीका वयस्कों को दिया जाएगा।

केंद्रीय औषधि प्राधिकरण की विषय विशेषज्ञ समिति (एसईसी) ने 12 अक्टूबर को कुछ शर्तों के साथ 2 से 18 वर्ष आयु वर्ग के बच्चों और किशोरों के लिए कोवैक्सिन को आपातकालीन उपयोग प्राधिकरण देने की सिफारिश की थी।