भारत में भी अब कोरोना वायरस का संक्रमण तेजी से बढ़ता जा रहा है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया है कि अभी तक पूरे देश में 2301 कोरोना वायरस केस सामने आ चुके हैं, 56 लोगों की मौत इस महामारी से हुई है। स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने बताया कि पिछले दो दिनों में तबलीगी जमात के सदस्यों की वजह से 14 राज्यों में कोरोना के 647 मरीज सामने आए हैं। पिछले 24 घंटों में हुई 12 मौतों में से कई तबलीगी जमात से जु़ड़े हुए हैं।


स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने बताया कि देश में पिछले 24 घंटों में कोरोना के कुल 336 नए मामले सामने आए। देश में एक कार्यक्रम की वजह से कोरोना के मामले बढ़े हैं। ऐसी घटनाओं से सारे प्रयास फेल हो जाते हैं। दिल्ली में कोरोना के 141 नए मामले सामने आए हैं जिनमें 129 तबलीगी जमात से जुड़े हुए हैं। लव अग्रवाल ने कहा कि हमें समझना होगा कि कोरोना के खिलाफ लड़ाई चल रही है। ऐसे में हमारी एक गलती की वजह से हम और पीछे चले जाएंगे।

गृह मंत्रालय की ओर से बताया गया कि तबलीगी जमात के 960 विदेशियों के वीजा कैंसिल कर दिया गया है। उन्हें ब्लैकलिस्ट किया गया है। केंद्रीय गृह मंत्रालय के कंट्रोल रूम में अब तक 7 हेल्पलाइन नंबर थे। दो नई हेल्पलाइन की और शुरुआत की गई है। ये हैं- 1930 (ऑल इंडिया टोल फ्री नंबर) और 1944 (नॉर्थ ईस्ट के लिए डेडिकेटेड)। हेल्पलाइन नंबर गृह मंत्रालय की वेबसाइट पर भी उपलब्ध है।
गृह मंत्रालय की अधिकारी पुण्य सलिला श्रीवास्तव ने बताया कि मंत्रालय ने सभी राज्य सरकारों पत्र लिखकर स्वास्थ्यकर्मियों और फ्रंटलाइन वर्कर्स पर हमले के मामले में सख्त कार्रवाई करने को कहा है। इसके अलावा सभी राज्य सरकारों से कोरोना के खिलाफ लड़ाई में शामिल स्वास्थ्यकर्मियों और अन्य लोगों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए कहा गया है।
आईसीएमआर के अधिकारी ने बताया कि देश में कोरोना वायरस संक्रमण की जांच के लिए 182 प्रयोगशालाएं हैं, जिनमें से 130 सरकारी हैं। कोरोना वायरस संक्रमण का पता लगाने के लिये पिछले 24 घंटों में 8,000 नमूनों की जांच की गई।