भारत के पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह ने कोरोना वायरस को मात दे दी है और अब स्वस्थ होने पर उन्हें अस्पतला से छुट्टी मिल गई है। मनमोहन सिंह को आज 29 अप्रैल को एम्स के ट्रॉमा सेंटर से छुट्टी दे दी गई। मनमोहन सिंह को 19 अप्रैल को कोरोना पॉजिटिव होने के बाद एम्स के ट्रॉमा सेंटर में भर्ती कराया गया था। पूर्व प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह को कोरोना के टीके 'कोवैक्सीन' के दो डोज दिए जा चुके हैं। उनकी उम्र 88 साल है और उन्हें शुगर की भी बीमारी है।

डॉ. मनमोहन सिंह की दो बायपास सर्जरी भी हो चुकी हैं। 1990 में उनकी पहली सर्जरी यूनाइटेड किंगडम में हुई थी और 2004 में उनकी एस्कॉर्ट अस्पताल में एंजियोप्लास्टी की गई थी। 2009 में एम्स में उनकी दूसरी बायपास सर्जरी हुई थी। बुखार के चलते पिछले साल मई के महीने में भी मनमोहन सिंह को अस्पताल में भर्ती होना पड़ा था। तब भी कोरोना का प्रकोप चरम पर था।
कोविड-19 से निपटने के लिए मनमोहन सिंह ने पांच उपाय सुझाते हुए प्रधानमंत्री नरेद्र मोदी को पत्र लिखा था। पत्र में उन्होंने इस बात पर जोर दिया था कि महामारी से मुकाबले के लिए टीकाकरण तथा दवाओं की आपूर्ति बढ़ाना जरूरी है। मनमोहन सिंह ने कहा था कि केवल टीका लगाये जाने की कुल संख्या को नहीं देखना चाहिए बल्कि यह देखा जाना चाहिए कि कितने प्रतिशत आबादी को टीका लगाया जा चूका है।