पूर्व आर्मी चीफ बिक्रम सिंह ने कहा है कि भारत अब 1962 वाला नहीं रहा जो चीन अपनी मनमर्जी कर ले। लद्दाख की सरहद पर करीब एक महीने से चीन से जारी तनातनी पर उन्होंने यह बात कही।
पूर्व सेना प्रमुख जनरल बिक्रम सिंह ने कहा कि डोकलाम के बाद चीन के साथ हमारे संबंध बेहतर रहे हैं। उन्होंने कहा कि मुझे लगता है कि इसका भी हल निकल आएगा। भारत-चीन के बीच तनाव पर पूर्व सेना प्रमुख जनरल बिक्रम सिंह ने हिस्सा लेेते हुए कहा कि मैं आशावादी हूं क्योंकि आशावादी होने में कोई हर्ज नहीं है।

उन्होंने कहा कि इस समस्या का हल मिलिट्री और डिप्लोमेटिक दोनों तरीके से ही निकलेगा। सिंह ने कहा, मेरा मानना है कि चीन ने ये कदम जिस मकसद से उठाए थे अगर वो पूरे हो गए होंगे तो आज कोई न कोई हल निकल जाएगा। मुझे लगता है कि एक-दो और मीटिंग के बाद इस समस्या का हल निकल जाना चाहिए। यही दोनों देशों के हित में होगा।