भारत-चीन विवाद के बीच एक ओर ड्रेगन समझौता कर भारतीय सीमा से पीछे हटने की बात कह रहा है तो दूसरी ओर भारत के खिलाफ साजिश रच रहा है। सूत्रों का दावा है कि चीन भारत की सीमाओं पर एक या दो नहीं तीन जगह से वार करने का षड्यंत्र रच रहा है। 

गलवान घाटी के साथ ही चीन पैंगोंग लेक पर अपनी सेनाओं की आवाजाही बढ़ाने लगा और अब वह देप्सांग में भी भारत के खिलाफ मोर्चा खोलने की तैयारी में है। मीडिया रिपोट्र्स का दावा है कि चीन पूर्वी लद्दाख के पूर्वी दौलत बेग ओल्डी में गतिविधियां बढ़ा रहा है। जून महीने में चीनी बेस के पास कैंप और वाहन देखे गए हैं। 

चीन की ओर से ये बेस 2016 से पहले ही बनाए गए थे। अब इसकी पुष्टि ताजा सैटेलाइट तस्वीरों से भी हुई है, जिसमें चीनी शिविर और ट्रैक साफ नजर आ रहे हैं। गौरतलब है कि देप्सांग के इस इलाके में 2013 में भी चीन ने घुसपैठ की कोशिश की थी। यही कारण है कि भारत पहले से ही तैयार था। चीन के मुकाबले भारत की सेना ने भी यहां अपनी मौजूदगी बढ़़ाई है।

सीमा पर विवाद करने के साथ ही चीन ने अब भारत पर साइबर वार शुरू कर दिया है। महाराष्ट्र साइबर डिपार्टमेंट ने चीन की इस साजिश का खुलासा किया है। विभाग ने लोगों को आगाह किया है चीन पिछले पांच दिनों में भारत पर लगातार साइबर हमले कर रहा है। इस दौरान भारत के सूचना, बैंकिंग और इंफ्रास्ट्रक्चर सेक्टर में हमले हुए हैं। अभी तब 40 हजार से अधिक बार चीन साइबर हमले कर चुका है।