भारत की 1975 की विश्व कप विजेता हॉकी टीम के सदस्य अशोक ध्यानचंद ने कहा है कि भारत इस साल टोक्यो में होने वाले ओलम्पिक खेलों में हॉकी में पदक जीत सकता है। अशोक ने सोमवार को यहां नौवें पद्मश्री श्याम लाल मेमोरियल आमंत्रण हॉकी टूर्नामेंट का उद्घाटन करते हुए यह बात कही।


पूर्व ओलंपियन अशोक ने कहा, 'यह ओलंपिक वर्ष है और भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने 1980 के मास्को ओलम्पिक के बाद से ओलंपिक में कोई पदक नहीं जीता है। भारतीय टीम ने एफआईएच प्रो लीग में जिस तरह विश्व चैंपियन और नंबर एक टीम बेल्जियम तथा विश्व की तीसरे नंबर की टीम हॉलैंड को हराया है उसे देखते हुए मैं यह उम्मीद कर रहा हूं कि टोक्यो ओलंपिक में भारतीय टीम पदक जीत सकती है।'


उन्होंने कहा, 'कॉलेज के बच्चों को हॉकी खेलते हुए देख मेरा भी मन खेलने को ललचा रहा था लेकिन मुझे पता है कि मेरा शरीर दिमाग का साथ नहीं देगा। यह अच्छी बात है कि श्याम लाल कॉलेज दिल्ली में हॉकी में चमक रहा है और कॉलेज के प्रधानाचार्य डॉ रबि नारायण कर और असिस्टेंट प्रोफेसर (खेल) वी एस जग्गी हॉकी के साथ-साथ अन्य खेलों को भी बढ़ावा दे रहे हैं। यह बहुत जरूरी है।'


मेजबान श्याम लाल कॉलेज ने टूर्नामेंट के पुरुष वर्ग में अपने खिताबी अभियान की शुरुआत जीत के साथ की। उद्घाटन मुकाबले में श्याम लाल कॉलेज ने इंदिरा गांधी इंस्टीट्यूट ऑफ फिजिकल एजुकेशन एंड स्पोट्स साइंसेज को 3-2 से हराया। विजेता टीम के लिए पंकज, मनीष और ललित ने एक-एक गोल किया। पराजित टीम के लिए निखिलेश और बसंत ने गोल किए। कॉलेज के प्रधानाचार्य डॉ रबि नारायण कर ने अतिथियों का स्वागत करते हुए कहा कि हम अगले वर्ष हॉकी टूर्नामेंट में स्कूली टीमों की भागीदारी भी सुनिश्चित करेंगे। इससे निचले स्तर पर हॉकी को बढ़ावा दिया जा सकेगा। उद्घाटन के अवसर पर श्री गुरु तेग बहादुर खालसा कॉलेज के प्रधानाचार्य डॉ जसविंदर सिंह, श्याम लाल कॉलेज सांध्य के प्रधानाचार्य डॉ प्रवीण कुमार आदि उपस्थित थे।