केंद्रीय मंत्री किरेन रिजिजू (kiren rijiju) ने काबुल से पवित्र ग्रंथ गुरु ग्रंथ साहिब के तीन स्वरूपों को भारत लाए जाने पर खुशी व्यक्त की। उन्होंने भारत को महान भूमि बताते हुए कहा कि यहां सभी के अधिकारों की रक्षा की जाती है। 

रिजिजू ने ट्विटर पर लिखा, "भारत वास्तव में एक धन्य भूमि है। मुझे बहुत गर्व महसूस होता है कि भारत में सबसे छोटे समुदाय और जनजातियां भी पूरी तरह से सुरक्षित और संरक्षित हैं।"

बता दें कि, पवित्र स्वरूपों को 78 लोगों के साथ अफगानिस्‍तान से वापस लाया गया। इस विमान में भारतियों के साथ तीन अफगान सिख शामिल थे। इन स्वरूपों को मंगलवार को लाया गया था। इन स्वरूपों को केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी अपने सिर पर लिए नंगे पैर ले जाते दिखे थे। 

किरेन रिजिजू का बयान ऐसे समय पर आया है जब कई भारतीयों को अफगानिस्तान से सुरक्षित निकाला जा रहा है। सिख समुदाय सहित कई नेताओं ने अफगानिस्तान में फंसे सिख समुदाय की मदद करने के लिए भारत सरकार की सराहना की। केंद्रीय मंत्री पुरी ने दुनिया भर में सिख समुदाय के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विचार और प्रतिबद्धता की भी सराहना की।

अफगानिस्तान से नागरिकों की निकासी 'ऑपरेशन देव शक्ति' के तहत किया जा रहा है। भारत ने अब तक अफगानिस्तान से 200 से अधिक भारतीयों को निकाला है। एक संयुक्त पहल में, भारतीय वायु सेना और एयर इंडिया के द्वारा युद्धग्रस्त देश से भारतीय नागरिकों को वापस लाने के लिए उड़ानें संचालित की जा रही है।