अफगानिस्तान में बढ़ती हिंसा और तालिबान के बढ़ते प्रभाव को लेकर की चिंता बढ़ गई है। इसी के चलते भारत ने कांधार से करीब 50 राजनयिकों और सुरक्षाकर्मियों को निकाल लिया है। साथ ही उन्हें वापस भारत ले आया गया है।

खबर है कि इन सबको भारतीय वायुसेना के एयरक्राफ्ट से कंधार से निकाला गया। सरकार के सूत्रों के अनुसार कांधार में भारतीय कांसुलेट को भी अस्थायी तौर पर बंद किया गया है और फिलहाल वहां केवल स्थानिय कर्मचारी हीं काम कर रहे हैं। साथ ही और सभी सेवाएं काबुल स्थित भारतीय दूतावास के ज़रिए दी जा रहीं हैं।

तालिबान ने दावा करते हुए कहा कि वो आधे अफगानिस्तान पर वापस कब्ज़ा जमा चुका है। असल में जैसे-जैसे अमेरिकी सेनाएं अफगानिस्तान से निकल रहीं हैं वैसे-वैसे तालिबान एक बार फिर से अफगानिस्तान में सिर उठा रहा है। वहीं एक दिन पहले ही तालिबान ने दावा किया था कि अब तक वो 50 फीसदी यानी आधे अफगानिस्तान पर वापस कब्ज़ा जमा चुका है।

तालिबान ने दावा किया कि वो कांधार शहर के अंदर तक घुस आया है। भारत को कांधार से अपने राजनयिकों और सुरक्षाकर्मियों को इसलिये निकालना पड़ा क्योंकि तालिबान ने दावा किया कि वो कांधार शहर के अंदर तक घुस आया है. भारत सरकार के सूत्रों ने कहा कि स्थिति के सामान्य होने पर कांधार कांसुलेट को वापस खोला जाएगा।