चीन की टक्कर में भारत ने सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल ब्रह्मोस उतार दी है जिसके सफल परीक्षण में उसने अरब सागर में मौजूद टारगेट नष्ट कर दिखाया। परीक्षण की टाइमिंग को बेहद अहम माना जा रहा है। ऐसे समय में जब भारत और चीन के बीच सीमा विवाद गरम है उस समय भारत का यह मिसाइल परीक्षण चीन को कड़े संदेश के दौर पर माना जा रहा है।
भारत अरुणाचल प्रदेश और लद्दाख में चीन से लगने वाली सीमाओं पर पहले ही ये ब्रह्मोस मिसाइल तैनात कर चुका है। पहले इसकी रेंज 290 किलोमीटर थी बाद में 400 किलोमीटर से ज्यादा तक कर दी गई है। अनुमान के मुताबिक सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल 450 किलोमीटर से अधिक दूरी तक निशाने को तबाह कर सकती है।
बता दें कि सुपरसोनिक ब्रह्मोस क्रूज मिसाइल को भारत और रूस के संयुक्त उपक्रम के तहत विकसित किया गया है। यह 400 किलोमीटर से ज्यादा दूरी तक टारगेट को भेद सकती है. रैमजेट सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल ब्रह्मोस को पनडुब्बी, युद्धपोत, लड़ाकू विमान और जमीन से भी लॉन्च किया जा सकता है।