जसप्रीत बुमराह (कुल आठ विकेट) और रविचंद्रन अश्विन (कुल छह विकेट) की घातक गेंदबाजी की बदौलत भारत ने श्रीलंका को यहां दूसरे पिंक बॉल टेस्ट क्रिकेट मैच के तीसरे दिन सोमवार को 59.3 ओवर में 208 रन पर ऑलआउट कर 238 रन से बड़ी जीत दर्ज की। 

ये भी पढ़ेंः पीएम मोदी के गुजरात में शेरों का हो गया सबसे बुरा हाल, इस रिपोर्ट से उड़ेंगे सरकार के होश


इसी के साथ भारत ने दो मैचों की यह सीरीज 2-0 से जीत ली। श्रीलंका के कल के एक विकेट पर 28 रन के स्कोर के साथ आज का खेल शुरू हुआ। कप्तान दिमुत करुणारत्ने और कुशल मेंडिस ने पहले सत्र में शानदार बल्लेबाजी करते हुए दिन की अच्छी शुरुआत की। दोनों के बीच दूसरे विकेट के लिए 97 रन की साझेदारी हुई, लेकिन अश्विन ने इस साझेदारी को तोड़ दिया। 97 के स्कोर पर मेंडिस आउट होकर पवेलियन लौट गए। इसके बाद श्रीलंका ने लगातार दो और विकेट खो दिए। 

ये भी पढ़ेंः अब अमित शाह पर दबाव बनाएगी इस राज्य की सरकार, कर सकती है ऐसा बड़ा काम


98 के स्कोर पर रवींद्र जडेजा ने श्रीलंका के सबसे अनुभवी बल्लेबाज एंजेलो मैथ्यूज को बोल्ड कर डग आउट भेज दिया और फिर 105 के स्कोर पर अश्विन ने धनंयज डी सिल्वा को चलता किया। इसके बाद हालांकि कप्तान करुणात्ने और निरोशन डिकवेला के बीच पांचवें विकेट के लिए 55 रन की साझेदारी हुई, लेकिन अक्षर पटेल ने 160 के स्कोर पर डिकवेला का विकेट लेकर इस साझेदारी को तोड़ दिया। अक्षर ने 180 के स्कोर पर चरित असलंका को अपना शिकार बनाया और फिर बुमराह ने लंबे समय से क्रीज पर जमे हुए करुणात्ने को बोल्ड कर पवेलियन भेजा। इस बीच अश्विन ने गेंद थामी और लसित एम्बुलडेनिया को पगबाधा आउट किया। 

बुमराह भी जाते-जाते एक और विकेट ले गए। बुमराह ने शानदार यॉर्कर से सुरंगा लकमल का विकेट लिया और फिर अश्विन ने अंत में विश्व फर्नांडो को आउट कर मैच को शानदार तरीके से समाप्त किया। बुमराह ने दोनों पारियों में 47 रन पर आठ, जबकि अश्विन ने 85 रन पर छह विकेट लिए। श्रीलंका की तरफ से करुणात्ने ने दूसरी पारी में 15 चौकों की मदद से 174 गेंदों पर 107 रन की शतकीय पारी खेली। वहीं भारत की तरफ से श्रेयस अय्यर दोनों पारियों में बल्ले के साथ शानदार रहे। उन्होंने पहली पारी में 10 चौकों और चार छक्कों के सहारे 98 गेंदों पर 92 और दूसरी पारी में नौ चौकों की मदद से 87 गेंदों पर 67 रन बनाए।