पूर्व भारतीय आल राउंडर स्टुअर्ट टेरेंस बिन्नी ने सोमवार को प्रथम श्रेणी और अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने की घोषणा कर दी। बिन्नी ने यहां एक बयान में कहा, मैं आप सबको बताना चाहता हूं कि मैंने संन्यास लेने का फैसला कर लिया है।

बिन्नी ने अपनी क्रिकेट यात्रा में बीसीसीआई की महत्वपूर्ण भूमिका को स्वीकार किया और कहा कि वर्षों तक उनका विश्वास और भरोसा उनके लिए बहुमूल्य रहा है। बिन्नी ने कर्नाटक राज्य क्रिकेट संघ को भी उनकी क्रिकेट यात्रा के लिए धन्यवाद दिया जिससे वह राज्य की क्रिकेट टीम की कप्तानी कर सके और ट्रॉफियां जीत सके। बंगलादेश के खिलाफ मीरपुर में चार रन पर छह विकेट वनडे में किसी भी भारतीय गेंदबाज का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है। उन्होंने अपना टेस्ट पदार्पण ट्रेंट ब्रिज में पहले टेस्ट में किया था। गेंदबाजी में तो वह कुछ खास नहीं कर पाए थे, लेकिन दूसरी पारी में उन्होंने 78 रन की मैच बचाने वाली पारी खेली थी।

इस मामले में स्‍टुअर्ट बिन्नी के बाद टीम इंडिया के पूर्व कप्तान और लेग स्पिनर अनिल कुंबले दूसरे स्‍थान पर हैं। 'जंबो' के नाम से मशहूर अनिल कुंबले ने वेस्‍टइंडीज के खिलाफ कोलकाता में साल 1993 में खेले गए वनडे मैच में 12 रन देकर छह विकेट हासिल किए थे। 1983 की वर्ल्‍ड कप विजेता भारतीय टीम के सदस्‍य रहे रोजर बिन्नी के बेटे स्‍टुअर्ट बिन्नी ने भारत के लिए 6 टेस्‍ट, 14 वनडे और 3 टी20 मैच खेले थे। स्टुअर्ट बिन्‍नी के नाम टेस्‍ट क्रिकेट में 194 रन और 3 विकेट, वनडे में 230 रन और 20 विकेट, टी20 में 35 रन और 1 विकेट का रिकॉर्ड है। बिन्नी ने 95 फर्स्‍ट क्‍लास मैचों में 4 हजार 796 रन बनाए और 148 विकेट लिए है। वहीं 100 लिस्‍ट ए मैचों में 1788 रन बनाने के साथ ही 99 विकेट भी लिए।

स्टुअर्ट बिन्नी भारत के लिए साल 2014 में इंग्लैंड के खिलाफ अपना टेस्ट डेब्यू और न्यूजीलैंड के खिलाफ 2014 में ही वनडे डेब्यू किया था। आईपीएल की बात करे तो उन्होंने कुल 95 मैच खेले हैं, जिसमें उनके बल्ले से कुल 880 रन निकले हैं। इसके अलावा गेंदबाजी में उन्होंने 22 विकेट भी चटकाए है। साल 2019 में उन्होंन आखिरी बार आईपीएल खेला था।