तमिलनाडु में पार्षद पद के चुनावों (Tamil Nadu councilor election) के दौरान एक चौंकाने वाला मामला सामने आया है। दरअसल वोटिंग से एक दिन पहले मतदाताओं को अपने पक्ष में करने के एक निर्दलीय प्रत्याशी ने वोटरों को ही धोखा दे दिया है। हालांकि चुनाव आयोग ने साफ कर दिया है मतदान से पहले किसी भी तरह के तोहफे नहीं बांटे जाएं, लेकिन इस प्रत्याशी ने तो वोटरों को सोने के सिक्के (fake gold coins) बांट दिए। हालांकि जब मतदाताओं को सिक्के की सच्चाई पता चली उनके पैरों तले जमीन खिसक गई।

ये भी पढ़ें

गजबः यूपी के पीलीभीत में अस्थायी चुनाव स्ट्रांग रूम की सुरक्षा करेगा लंगूर, जानिए कैसे


बता दें कि अंबुर के 36वें वार्ड से निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में मणिमेगालाई दुरईपंडी (Manimegalai Duraipandi) चुनावी मैदान में थीं। दुरईपंडी ने 19 फरवरी को नारियल के पेड़ के चिन्ह पर वोट डालने का अनुरोध करते हुए प्रचार किया था और कथित तौर पर 18 फरवरी की रात को अपने पति के साथ मतदाताओं को उपहार दिया था। क्षेत्र के मतदाताओं का दावा है कि मनीमेगालाई दुरईपंडी ने कथित तौर पर प्रत्येक परिवार को एक छोटे से बॉक्स के अंदर एक सोने का सिक्का (gold coin) दिया था और उनसे मतगणना की तारीख तक इसे नहीं खोलने का अनुरोध किया था। मतदाताओं से कहा था कि अगर वे मतदान के तीन दिनों के भीतर सिक्के का इस्तेमाल करने की कोशिश करते हैं, तो राज्य चुनाव आयोग (state election commission) को इसका पता चल जाएगा और वे इसे जब्त कर लेंगे।

ये भी पढ़ें

केंद्र सरकार का बड़ा एक्शन, 'चुनाव के बीच इस टीवी चैनल पर लगा दिया प्रतिबंध


रविवार को कुछ मतदाताओं ने इसे गिरवी रखने की कोशिश की थी और यह जानकर चौंक गए कि सिक्के सोने के नहीं बल्कि तांबे के थे। मतदाताओं का दावा है कि मणिमेगालाई दुरईपंडी ने सोने की पतली परत से लिपटे तांबे के सिक्के दिए थे। गिफ्ट में सोने का सिक्का लेने वाली एक महिला ने कहा कि मणिमगलाई दुरईपंडी (Manimegalai Duraipandi) ने उसे बताया था कि उसने 20 लाख रुपये में अपने घर पर गिरवी रखा और सोने के सिक्के खरीदे और उसे वोट देने के लिए भीख मांगी। उसने कहा कि इलाके के लोगों ने दया की और उसे वोट दिया और अब अपने फैसले पर पछता रही है। इस मामले में अभी तक किसी ने पुलिस में शिकायत नहीं की है।