कानपुर के ग्रीनपार्क मैदान (Kanpur Green Park Ground) पर अपना पदार्पण टेस्ट खेल रहे श्रेयस अय्यर (Shreyas Iyer) के नाम रविवार को एक अनूठी उपलब्धि दर्ज हो गयी जब उन्होंने न्यूजीलैंड (Ind VS NZ 1st Test) के खिलाफ खेले जा रहे पहले टेस्ट मैच की दूसरी पारी में अर्धशतक जमा दिया। पहली पारी में शतक जड़ने के बाद दूसरी पारी में यह कारनामा करने वाले श्रेयस पहले भारतीय बल्लेबाज हैं। 

न्यूजीलैंड के खिलाफ अपनी दूसरी पारी में तीन विकेट महज 41 रन पर खोकर संघर्ष की स्थिति में आयी टीम को श्रेयस (Shreyas Iyer) ने 65 रन की पारी खेलकर संकट से उबारा। उन्होंने 125 गेंदों मेें आठ चौके और एक छक्का जमाया। उन्होंने पहली पारी में 105 रन की महत्वपूर्ण शतकीय पारी खेली थी। इससे पहले डेब्यू टेस्ट में शतक जड़ने वाले श्रेयस ने 16वें भारतीय खिलाड़ी बनने का गौरव हासिल किया था। भारत की पिचों पर डेब्यू टेस्ट में यह कारनामा इससे पहले 1974 में कैरिबियन बल्लेबाज गार्डन ग्रीनिज (93 और 160) और 2006 में इंग्लैंड के एलेस्टर कुक (60 और 104 नाबाद) ने किया है। 

पदार्पण टेस्ट में सबसे ज्यादा रन ठोकने के मामले में भी श्रेयस तीसरे नम्बर पर है। इससे पहले शिखर धवन (Shikhar Dhawan) ने अपने पहले टेस्ट में 187 रन बनाये है जबकि दूसरे नम्बर पर रोहित शर्मा (Rohit Sharma) 177 रन है। श्रेयस ने पदार्पण टेस्ट में 170 रन बनाये हैं। श्रेयस ने अपनी इस उपलब्धि के बारे में कहा कि मै बहुत खुश हूं। डेब्यू टेस्ट में सेंचुरी लगाने से बेहतर और कुछ नहीं हो सकता। कानपुर का ग्रीनपार्क मैदान मेरे लिये भाग्यशाली रहा है। 

रणजी ट्राफी में मैने अपना पदार्पण सूर्य कुमार की अगुवाई में मुबंई की टीम के लिये किया था और पुछल्ले बल्लेबाजों की मदद से संकट में फंसी मुबंई को निकाल कर एक जीत दिलायी थी। बाद में आईपीएल के एक मैच 93 रन बनाये थे। उन्होंने कहा कि महानतम सुनील गावस्कर (Sunil Gavaskar) के हाथों टेस्ट कैप मिलना मेरे लिये एक सरप्राइज था। मैने सोचा था कि हमारे कोच राहुल द्रविड़ मुझे टेस्ट कैप देंगे। सुनील सर ने मुझे प्रोत्साहित किया। उन्होने कहा कि सिर्फ आज पर ध्यान दो और शायद मैं अपनी टीम के भरोसे पर खरा उतरा हूं।