बेनामी संपत्ति मामले में आयकर विभाग (Income Tax department) ने महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री अजीत पवार (deputy CM Ajit Pawar) से जुड़ी 1000 करोड़ रुपये की संपत्ति को अस्थायी रूप से कुर्क किया है। सूत्रों ने बताया कि कुर्क की गई संपत्तियां कथित तौर पर अजीत पवार से जुड़ी हैं, जो महाराष्ट्र, गोवा और दिल्ली में हैं।

आयकर विभाग (Income Tax) की बेनामी शाखा ने चल रही जांच के तहत एक अस्थायी कुर्की आदेश जारी किया है। रिपोर्ट के अनुसार, आयकर विभाग द्वारा कुर्क की गई संपत्ति में महाराष्ट्र (Maharashtra) के सतारा में जरंदेश्वर शुगर फैक्ट्री, मुंबई में एक आधिकारिक परिसर, दिल्ली में एक फ्लैट और गोवा में एक रिसॉर्ट शामिल है।
इसके अलावा, संपत्ति में 500 करोड़ रुपये के बाजार मूल्य के साथ महाराष्ट्र में 27 विभिन्न स्थानों पर भूमि पार्सल भी शामिल हैं। सूत्रों ने कहा कि कुर्क की गई संपत्तियों का मौजूदा बाजार मूल्य करीब 1000 करोड़ रुपये से अधिक है। हालांकि, इन संपत्तियों का बुक वैल्यू बहुत कम है, रिपोर्ट में कहा गया है।


आयकर विभाग ने पिछले अक्टूबर महीने में मुंबई में दो रियल एस्टेट व्यवसाय समूहों और कथित तौर पर अजीत पवार (Ajit Pawar) के किसी रिश्तेदार से जुड़ी कुछ संस्थाओं पर छापेमारी के बाद 184 करोड़ रुपये की बेहिसाब आय का पता लगाया था। आयकर विभाग ने मुंबई के दो रियल एस्टेट व्यवसाय समूहों, डीबी रियल्टी और शिवालिक समूह के साथ-साथ उनसे जुड़े कुछ व्यक्तियों और संस्थाओं पर छापा मारा, जो अजीत पवार के बेटे और बहनों से भी जुड़े थे।