इस बात में कोई दोराय नहीं है कि जब दो लोगों के बीच प्यार की शुरुआत होती है, तब दिल में खुशनुमा एहसास के साथ सबकुछ बहुत अच्छा लगने लगता है। पार्टनर्स का एक-दूसरे की फिक्र करना और छोटी-छोटी बातों पर रूठना-मनाना जैसी कई चीजें मीठा एहसास देती हैं, हालांकि कई बार यह सब धीरे-धीरे धुंधला भी होने लगता है। साथी की हर बात पर गुस्सा आने से लेकर हर रोज लड़ाई-झगड़े शुरू हो जाते हैं। ऐसे में पार्टनर्स एक दूसरे के साथ तो रहते हैं, लेकिन चाहकर भी प्यारभरी नजरों से नहीं देख पाते।

थोड़ी बहुत अनबन हर रिश्ते में होती है और कुछ वक्त बाद फिर से सब पहले जैसा हो जाता है। लेकिन जहां सबकुछ ठीक होने के बावजूद भी पार्टनर्स खुशी नहीं महसूस कर पाते हैं, वहां समझ लेना चाहिए कि प्यार की जड़ें डगमगाने लगी हैं। ऐसे रिश्ते में रहना किसी भी तरह से फायदेमंद नहीं हो सकता।

किसी भी रिश्ते को लॉन्ग टर्म बेस पर चलाने के लिए उसमें सम्मान का होना बेहद जरूरी है। हर व्यक्ति चाहता है कि उसका पार्टनर उसकी भावनाओं की कद्र करे, उसके करियर में उसे सपोर्ट करे और व्यवहार में विनम्रता बनाए रखे। लेकिन जब विचारों में मतभेद शुरू हो जाते हैं, तो अक्सर लोग लड़ाई और बहस के दौरान शब्दों की गरिमा भूल जाते हैं। ऐसे में वे न सिर्फ आपको बुरा भला कहते हैं, बल्कि बात-बात पर गलती निकालने लगते हैं। इस तरह के रिश्ते में आपकी सेल्फ रिस्पेक्ट न के बराबर रह जाती है, जो बताती है कि प्यार में अब मिठास से ज्यादा कड़वाहट भर चुकी है।

प्रेमी जोड़ों को एक-दूसरे के साथ वक्त बिताना अच्छा लगता है। हां, वो बात अलग है कि कई बार पार्टनर्स लाइफ में बोरिंग जैसा फील करने लगते हैं। हालांकि, वे एक-दूसरे के साथ नहीं बल्कि परिस्थिति वश ऐसा महसूस करते हैं। लेकिन अगर आप अपने पार्टनर के साथ ही बोर फील कर रहे हैं, तो आपको अपने रिश्ते के बारे में सीरियस हो जाना चाहिए। एक स्टडी के मुताबिक, एक प्यारभरे रिश्ते में कैसी भी सिच्युएशन हो, लेकिन पार्टनर का साथ गजब की ऊर्जा देता है। अगर आप साथी के साथ रहकर भी लगातार अजीब फील कर रहे हैं तो इस बारे में आपको उनसे बात करने की तत्काल जरूरत है। 

प्यार के शुरुआती दौर में कपल्स एक-दूसरे से घंटों बातचीत करते हैं। लेकिन वक्त के साथ इसमें कमी आ जाती है, जो एक आम बात है। समय के साथ पार्टनर्स एक-दूसरे की लाइफ के बारे में लगभग सबकुछ जान चुके होते हैं, ऐसे में फोन पर घंटों वाली गपशप बेशक कम हो सकती है। लेकिन अगर आपका पार्टनर दिन में एक बार बात करने में भी इरिटेट हो रहा है, तो इसे इग्नोर करना समझदारी नहीं है। मैं बिजी हूं, बार-बार कॉल करके परेशान मत करो जैसे शब्द अगर आपको अपने पार्टनर से सुनने को मिल रहे हैं, तो यकीन मानिए कि आपके रिश्ते में प्यार की डोर कहीं तो कमजोर हो रही है।

समय के साथ चलना और बदलना जिंदगी का नियम है। हर इंसान इस पड़ाव से गुजरता है जब अच्छी और बुरी परिस्थितियों के कारण उसमें कई बदलाव आते हैं। लेकिन अगर पार्टनर का बदला हुआ बिहेवियर सिर्फ आपके लिए है, तब इसपर आपको ध्यान देना चाहिए। बदले हुए व्यवहार में साथी का समय पर घर न आना, आपसे दूर-दूर भागने का प्रयास करना, अक्सर दोस्तों के साथ पार्टी करना जैसी बातें शामिल हो सकती हैं। पार्टनर के ऐसे बिहेवियर के पीछे दूसरे कारण भी हो सकते हैं, किसी भी निष्कर्ष पर पहुंचने से पहले आपको उनसे बात जरूर करनी चाहिए।