दिल्ली. भारत ने संयुक्त राष्ट्र महासभा में पाकिस्तान के झूठे आरोपों पर करारा पलटवार करते हुए कहा कि भारत पर झूठे आरोप लगाने से पहले पाकिस्तान को अपने देश की हालत देखनी चाहिए. भारत ने साफ किया कि जम्मू-कश्मीर पर बोलने से पहले पाकिस्तान को इस्लामाबाद से सीमा पार आतंकवाद को रोकना चाहिए. 

यह भी पढ़े : IND vs AUS: मात्र 2 गेंद खेलकर दिनेश कार्तिक बने हीरो, रोहित शर्मा ने बनाया वर्ल्ड रिकॉर्ड, देखें वीडियो


भारत की ओर से भारतीय मुख्य राजदूत मिजिटो विनिटो ने पाकिस्तान के झूठे आरोपों का जवाब देने के लिए संयुक्त राष्ट्र महासभा में राइट ऑफ रिप्लाई का उपयोग किया. विनिटो ने कहा कि पाकिस्तान में जब दलित समुदाय से हजारों महिलाओं को जानबूझ कर अगवा किया जाता है, ऐसी मानसिकता पर हम क्या निष्कर्ष निकाल सकते हैं.

यह भी पढ़े : Numerology Horoscope 24 Septembe : 24 सितंबर को इन तारीखों में जन्मे लोगों को तरकी के प्रबल संकेत, धन


उन्होंने कहा कि यह बहुत दुख की बात है कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने इस प्लेटफार्म को भारत पर झूठे आरोप लगाने के लिए इस्तेमाल किया है. उन्होंने ऐसा इसलिए किया ताकि वह अपने देश में हो रही घटनाओं पर पर्दा डाल सकें और भारत के खिलाफ अपने बर्ताव को उचित ठहरा सकें जो कि पूरे विश्व को गवारा नहीं है.

मुख्य राजदूत मिजिटो विनिटो ने आतंकवाद पर भी पाकिस्तान को खरी-खोटी सुनाते हुए कहा कि एक देश जो दावा करता है कि वह अपने पड़ोसियों के साथ शांति चाहता है, वह कभी भी सीमा पार आतंकवाद को प्रायोजित नहीं करेगा और न ही मुंबई आतंकवादी हमले के योजनाकारों को आश्रय देगा.

यह भी पढ़े : Horoscope Today 24 September : इन राशि वालों के लिए उम्मीदों से भरा दिन, मां काली की अराधना करें


इससे पहले पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ ने शुक्रवार को यहां कहा था कि पाकिस्तान भारत सहित अपने सभी पड़ोसियों के साथ अमन चाहता है, लेकिन दक्षिण एशिया में स्थायी शांति एवं स्थिरता कश्मीर मुद्दे के उचित और स्थायी समाधान पर निर्भर करती है. संयुक्त राष्ट्र महासभा के उच्च स्तरीय सत्र को संबोधित करते हुए शरीफ ने दावा किया कि जम्मू-कश्मीर के विशेष दर्जे को बदलने के लिए पांच अगस्त, 2019 को भारत के अवैध और एकतरफा कदम ने शांति की संभावनाओं को और कमतर किया है और क्षेत्रीय तनाव को भड़काया है.

उन्होंने कहा कि हम भारत सहित अपने सभी पड़ोसियों के साथ अमन चाहते हैं. दक्षिण एशिया में स्थायी शांति और स्थिरता, जम्मू-कश्मीर मुद्दे के उचित और स्थायी समाधान पर निर्भर है. शरीफ ने कहा कि मेरे ख्याल से यह सही वक्त है जब भारत को यह संदेश साफ तौर पर समझना चाहिए कि दोनों देश हथियारों से लैस हैं. जंग कोई विकल्प नहीं है. सिर्फ शांतिपूर्ण संवाद ही इन मुद्दों को हल कर सकता है, ताकि आने वाले वक्त में दुनिया और ज्यादा शांतिपूर्ण हो जाए.