पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद को एक और चिट्ठी लिखी है। इसमें ऐसा दावा किया गया है कि भारत ने कश्मीर से लगती सीमा पर विभिन्न प्रकार की मिसाइलें तैनात की हैं और वह कश्मीर की गंभीर स्थिति से दुनिया का ध्यान भटकाने के लिए पाकिस्तान पर हमला कर सकता है। 

कुरैशी का बयान ऐसे समय में आया है, जब हाल ही में इंडियन आर्मी चीफ जनरल बिपिन रावत ने कहा था कि सीमा पर स्थिति कभी भी बिगड़ सकती है और सेना उससे निपटने के लिए तैयार है। ऐसा लग रहा है कि पाकिस्तान आर्मी चीफ के इस बयान से डर गया है और सुरक्षा परिषद में प्रॉपेगैंडा फैला रहा है।

12 दिसंबर को सुरक्षा परिषद और यूएन महासचिव के नाम अपनी 7वीं चिट्ठी में कुरैशी ने कहा कि भारतीय कार्रवाई से दक्षिण एशिया में पहले से चल रहे तनाव और बढ़ेंगे। पाक विदेश कार्यालय की तरफ से जारी बयान के मुताबिक कुरैशी ने अपनी चिट्ठी में दावा किया कि भारत ने विभिन्न रेंज व क्षमता वाले टेस्टिंग मिसाइल को तैनात किया है। 

कुरैशी ने अपनी चिट्ठियों के माध्यम से यूएनएससी और संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुतारेस से कश्मीर की स्थिति पर बात की। कुरैशी ने इसके साथ ही यूएनएमओजीआईपी को क्षेत्र में मजबूत करने की अपनी अपील को दोहराया। उधर, भारत ने यह बार-बार कहा है यूएनएमओजीआईपी की स्थापना 1949 में हुई है, उसने अपनी सार्थकता खो दी है और शिमला समझौते के बाद अप्रासंगिक हो गई है।

अब हम twitter पर भी उपलब्ध हैं। ताजा एवं बेहतरीन खबरों के लिए Follow करें हमारा पेज :  https://twitter.com/dailynews360