असम के जोरहाट और गोलाघाट जिलों में जहरीली शराब पीने के कारण मरने वालों की संख्या बढ़कर 120 हो गयी है। गोलाघाट के उपायुक्त धीरेन हजारिका ने बताया कि जिले में गुरुवार से अब तक 80 लोगों के मरने की सूचना है।


उन्होंने बताया कि हालात अब स्थिर हैं। सीमावर्ती जोराहाट जिले में कल रात तक 43 लोगों की मौत होने की सूचना है। इस बीच राज्य के आबकारी मंत्री परिमल शुक्लवैद्य ने प्रभावित जिलों का दौरा किया और स्थिति का जायजा लिया।


जहरीली शराब के कारण हुई मौतों के बाद आबकारी विभाग ने राज्य भर में जहरीली शराब के खिलाफ अपने अभियान को तेज कर दिया है। मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल ने कल जेएमसीएच का आज दौरा किया और अस्पताल में शामिल लोगों के स्वास्थ्य के बारे में जानकारी ली।


उन्होंने मृतकों के परिवारों को दो-दो लाख रुपये और अस्पताल में भर्ती बीमारों को 50 हजार रुपये की सहायता राशि देने की घोषणा की है। राज्य सरकार ने मामले की उच्च स्तरीय जांच के आदेश दिये हैं। इस मामले में पहली मौत 21 फरवरी की रात गोलाघाट जिले के हाल्मिरा चाय बागान में हुई थी और शुरुआती जांच में पता चला है कि पीड़तिों ने अवैध शराब 'सुलाई' पी थी जो स्थानीय तौर पर बनायी गयी थी।