असम में जहरीली शराब के सेवन से मरने वालों की संख्या बढ़ती जा रही है और सोमवार को मृतकों की तादाद बढ़कर 157 तक पहुंच गयी। हादसे से गोलाघाट जिला सबसे गंभीर रूप से प्रभावित रहा जहां करीब 100 लोगों की मौत हो चुकी है। राज्य के केबिनेट मंत्री चन्द्र मोहन पटोवरी ने यहां कहा कि गोलाघाट जिले में जहरीली शराब पीने के बाद 66 पुरुषों सहित 95 लोगों की मौत हो गयी है।


जोरहाट जिले में 60 लोगों की मौत की रिपोर्ट मिली है जिसमें 43 पुरुष शामिल हैं। गोलाघाट के अस्पतालों में 97 और जोरहाट के अस्पतालों में 171 पीड़ति अभी भर्ती हैं। पुलिस ने इस मामले में गोलाघाट से 26 तथा जोरहाट से भी आठ लोगों को गिरफ्तार किया है। घटना के बाद आबकारी विभाग ने अवैध शराब बनाने वालों के खिलाफ पूरे राज्य में व्यापक अभियान शुरू कर दिया है।


राज्य सरकार ने मृतकों के परिजनों को दो-दो लाख रुपये तथा अस्पताल में भर्ती लोगों को 50-50 हजार रुपये की सहायता देने की घोषणा की है। आधिकारिक सूत्रों के मुताबिक विभिन्न जांच एजेंसियां पूरे मामले की जांच कर रही हैं। जहरीली शराब के नमूने एकत्र कर फोरेंसिक जांच के लिए भेज दिये हैं। गौततलब है कि गोलाघाट जिले के हाल्मीरा चाय बगान में गत 21 फरवरी को जहरीली शराब पीने से पहले व्यक्ति की मौत होने की खबर सामने आयी थी। सुलाई (देशी शराब) पीने के बाद ही लोगों ने पेट दर्द और कम दिखाई देने की शिकायतें दर्ज करायी। जिसके बाद उन्हें अस्पतालों में भर्ती कराया गया। इसके बाद लोगों की मौत का सिलसिला शुरू हुआ।