एक 33 वर्षीय व्यक्ति को कथित तौर पर फर्जी इंस्टाग्राम अकाउंट बनाने और उस पर महिलाओं की न्यूड तस्वीरें पोस्ट करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। आरोपी की पहचान नोएडा, यूपी के निवासी मोहित शर्मा के रूप में हुई है, जिसके पास मैकेनिकल इंजीनियरिंग में बी.टेक डिग्री है और बिजनेस मैनेजमेंट में पोस्ट ग्रेजुएशन भी है। वह गूगल के साथ मार्केट रिसर्च एनालिस्ट, इंटेलिजेंस फ्यूजन एंड स्ट्रेटेजिक ऑपरेशन (आईएफएसओ) यूनिट दिल्ली पुलिस के रूप में काम कर रहा था।

ये भी पढ़ेंः 

डीसीपी (आईएफएसओ) केपीएस मल्होत्रा ने बताया कि एक महिला ने 2020 में शिकायत दर्ज कराई थी कि किसी ने आर्कुडनेस यूजरनेम के साथ फर्जी इंस्टाग्राम अकाउंट बनाया और उसकी नग्न तस्वीरें पोस्ट कीं। उसकी शिकायत के आधार पर पुलिस ने आईटी एक्ट की धारा 67 के तहत मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। जांच के दौरान, इंस्टाग्राम और हॉटमेल से डिजिटल फुटप्रिंटस के निशान एकत्र किए गए, जो अपराध के समय कथित उपयोगकर्ता के आईपी पते पर मैच किए गए थे।

ये भी पढ़ेंः प्रियंका चोपड़ा ने पति निक जोनास के साथ मिलकर मनाई महाशिवरात्रि, तसवीरें हुई वायरल


कथित इंस्टाग्राम अकाउंट के आईपी पते और इससे जुड़ी हॉटमेल आईडी नोएडा में आरोपी के आवास पर स्थापित एयरटेल ब्रॉडबैंड वाईफाई कनेक्शन से जुड़ी हुई पाई गई। डीसीपी ने कहा, संदिग्ध से पूछताछ की गई लेकिन उसने अपनी संलिप्तता से इनकार किया और दावा किया कि उसका वाईफाई किसी ने हैक कर लिया है और उसने इस संबंध में शिकायत दी है। इसके बाद पुलिस ने संदिग्ध का लैपटॉप और मोबाइल फोन जब्त कर फॉरेंसिक जांच के लिए भेज दिया। अधिकारी ने कहा, विश्लेषण के अनुसार, आरोपी मोहित द्वारा इस्तेमाल किए जा रहे लैपटॉप से निकाले गए डेटा में मामले से संबंधित इमेजिस सहित महिलाओं के हजारों अश्लील चित्र पाए गए। इसके बाद आरोपी को 25 फरवरी को गिरफ्तार किया गया था।

ये भी पढ़ेंः यूक्रेन हादसाः पिता से बात कर सब्जी लेने गया था नवीन, फिर मिली ऐसी दर्दनाक मौत


पूछताछ के दौरान, यह पता चला कि आरोपी ने खुद को एक महिला रूसी पत्रिका संपादक के रूप में प्रस्तुत किया और महिलाओं को बिना चेहरा दिखाए उनकी नग्न तस्वीरें साझा करने के लिए धोखा दिया। आरोपी बाद में ऐसी और तस्वीरें मांगने के लिए उन तस्वीरों को उसके इंस्टाग्राम अकाउंट पर भेज देता था। अधिकारी ने कहा, आरोपी ने उन तस्वीरों को नाबालिगों सहित अपने कुछ दोस्तों और रिश्तेदारों को भी भेजा था। आरोपी ने तब पीडि़त की और अधिक स्पष्ट तस्वीरें सार्वजनिक करने की धमकी दी, जब तक कि पीडि़ता ने उसके साथ निजी तौर पर अपनी और अश्लील तस्वीरें साझा नहीं कीं, इस प्रकार उन्हें एक दुष्चक्र में फंसा दिया। अधिकारी ने कहा कि मामले में आगे की जांच जारी है।