प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन योजना (PM-Shram Yogi Maan-Dhan Yojana) एक पेंशन स्कीम है जो खास करके उन लोगों के लिए है जो असंगठित क्षेत्र में काम करने वाले मजदूर हैं।  पीएम -एसवाईएम एक ऐसी पेंशन स्कीम है जो बुढ़ापे की सुरक्षा के लिए तैयार की गई है।  यह असंगठित क्षेत्र के मजदूरों को सामाजिक सुरक्षा प्रदान करती है। 

सरकारी दिशानिर्देशों के मुताबिक, पीएम-एसवाईएम स्कीम बड़ी संख्या में असंगठित क्षेत्र के मजदूरों के लिए तैयार की गई योजना है।  जिसमें रिक्शा चालक, फेरी वाले, मिड-डे मील में काम करने वाले मजदूर, कृषि मजदूर, निर्माण कार्य करने वाले मजदूर, बीड़ी बनाने वाले मजदूर, हैंडलूम के मजदूर, चमड़ा उद्योग के मजदूर, ऑडियो-विजुअल वर्कर्स या इस तरह के अन्य क्षेत्रों में काम करने वाले मजदूर के लिए तैयार की गई स्कीम है। 

इसमें उपर्युक्त क्षेत्रों में काम करने वाले सभी तरह के मजदूर शामिल हैं, लेकिन उनके लिए एक शर्त है कि वे भारत के नागरिक होने चाहिए।  इसमें उन सभी सेक्टर्स को शामिल किया गया है जो असंठित क्षेत्र के अंतर्गत आते हैं।  इस योजना का लाभ लेने की आयु सीमा 18 साल से 40 साल है और आय 15,000 प्रति माह से अधिक नहीं होनी चाहिए।  इस स्कीम के लाभार्थी का संबंध किसी संगठित क्षेत्र से नहीं होना चाहिए।  साथ ही उसे आयकर दाता भी नहीं होना चाहिए।  उसे किसी ईपीएफ-एनपीएस-ईएसआईसी का सदस्य भी नहीं होना चाहिए।  तभी इस स्कीम का लाभ ले सकते हैं। 

जिनके पास आधार कार्ड है और बैंक में जनधन खाता खुला है।  बैंक का आईएफएससी कोड बताया गया है।  उसको पीएम-एसवाईएम स्कीम के अंतर्गत लाभ मिल सकता है। 

पीएम-एसवाईएम के अंतर्गत बताए गए नियमों के मुताबिक, इस तरह के हर शख्स को 3,000 रुपये दिए जाएंगे।  लेकिन यह रकम उनके खाते में तभी आएगी जब वे 60 साल के हो जाएंगे।  यह पेंशन उन्हें तब तक मिलती रहेगी, जब उनकी मौत नहीं हो जाती है।  मौत के बाद पेंशनधारक की पत्नी को 50 प्रतिशत राशि बतौर फेमिली पेंशन दी जाएगी।  यह पेंशन के केवल पत्नी को ही मिलेगी। दूसरे किसी को नहीं दी जाएगी। 

ऊपर बताए गए नियम और शर्तों को पूरा करने वाले शख्स को कॉमन सर्विस सेंटर पर जाकर पीएम-एसवाईएम के लिए नामांकन करना होगा।  इसके लिए जरूरी कागजात जैसे- आधार कार्ड और जनधन बैंक खाते का विवरण देना होगा।  पहले तो सब्सक्रिप्शन के लिए फीस नगद ही जमा करना होगा।  लेकिन दूसरी बार पीएम-एसवाईएम के वेब पोर्टल पर जाकर या मोबाइल ऐप से सेल्फ रजिस्टर के लिए डाउनलोड करके भर सकते हैं।  यह आधार कार्ड और जनधन बैंक खाते के सेल्फ सर्टिफाई करने के बाद हो जाएगा।