अगर आप किसी पेट्रोल पंप पर फ्यूल भरावाने जा रहे हैं, तो अपने साथ गाड़ी का पॉल्‍यूशन सर्टिफिकेट (pollution certificate) जरूर रखें। इसके बिना आपको पंप पर पेट्रोल-डीजल नहीं मिलेगा और बैरंग वापस लौटना पड़ सकता है। जी हां यह नियम दिल्ली सरकार ने जारी किया है। 

बता दें कि दिल्‍ली सरकार (Delhi Government) के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय (Environment Minister Gopal Rai) ने बताया कि जल्‍द हम पेट्रोल पंप पर तेल देने के लिए Pollution Under Control (PUC) सर्टिफिकेट को जरूरी करने जा रहे हैं। लागू करने से पहले इसे जनता के सामने रखा जाएगा। उन्‍होंने कहा, यह हमारी सरकार की ओर से लाई जाने वाली बेहद जरूरी पॉलिसी है। दिल्‍ली सहित पूरा उत्‍तर भारत भीषण प्रदूषण से जूझ रहा है। इस नियम के जरिये हम प्रदेश की सभी गाड़ियों की प्रदूषण स्थिति पर नजर रखा जा सकेगा।

वहीं, पर्यावरण मंत्रालय की सलाहकार रीना गुप्‍ता (Reena Gupta, Advisor to the Ministry of Environment) ने कहा कि दिल्‍ली सरकार (delhi government) फ्यूल भराने और PUC सर्टिफिकेट को लिंक कर प्रदेश की जनता को स्‍वच्‍छ हवा देने के वादे पर आगे बढ़ रही है। अगर तेल भराने गए किसी व्‍यक्ति का PUC सर्टिफिकेट वैलिड नहीं पाया गया उसे पंप पर ही नया सर्टिफिकेट जारी किया जाएगा। बता दें कि दिल्‍ली के 10 जोन में PUC सर्टिफिकेट जारी करने वाले सेंटरों की संख्या 966 हैं।

मंत्रालय के अनुसार, इस नई पॉलिसी लागू होने के बाद पेट्रोल पंप पर गाड़ियों की लंबी लाइनें लगने की आशंका है। इससे बचने के लिए हम तकनीक का सहारा लेंगे। इसके अलावा फ्यूल की क्‍वालिटी बढ़ाने, ई-वाहन को बढ़ावा देने के लिए लोगों को जागरूक करने और नई व पुरानी दोनों ही तरह की गाड़ियों के लिए धुआं छोड़ने के नए नियम लागू किए जा रहे हैं।