नई दिल्ली. केंद्रीय सड़क, परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नीतिन गडकरी अक्सर जनता के दिलों को छू लेने वाले बयान देते हैं. इस बार नागपुर में आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान गडकरी ने कहा कि ‘कोई भी कानून गरीब कल्याण में बाधक नहीं बन सकता. यदि कोई भी कानून गरीब कल्याण की राह में बाधक बनता है तो सरकार को इसे तोड़ने या दरकिनार का पूरा अधिकार है. ऐसा राष्ट्रपिता महात्मा गांधी भी कहते थे.’ गडकरी ने कहा, ‘मैं जानता हूं कि गरीबों के कल्याण में कोई भी कानून आड़े नहीं आता, ऐसे कानून को 10 बार भी तोड़ना हो तो संकोच नहीं करना चाहिए क्योंकि महात्मा गांधी ने भी ऐसा ही कहा था.’

यह भी पढ़े : Raksha bandhan 2022 : भृगु संहिता के अनुसार 11 अगस्त को रक्षा बंधन मनाना शास्त्रसम्मत, 12 को उचित नहीं


कार्यक्रम के दौरान गडकरी ने कहा, ‘मैं हमेशा अधिकारियों से कहता हूं कि आप जो कहेंगे, सरकार उसके अनुसार सरकार काम नहीं करेगी. आपको केवल हां सर कहना है. आपको, हम जो कह रहे हैं, उसपर अमल करना होगा, उसे क्रियान्वित करना होगा. सरकार हमारे हिसाब से काम करेगी. केंद्रीय मंत्री ने 1995 की एक घटना को याद करते हुए कहा, ‘जब महाराष्ट्र में मनोहर जोशी मुख्यमंत्री थे, तब मैं अक्सर अधिकारियों से कहा करता था कि आपके हिसाब से सरकार नहीं चलेगी, सरकार हमारे हिसाब से चलेगी और हम जो कहेंगे उसका पालन करना होगा.’

यह भी पढ़े : Raksha Bandhan 2022: राखी बांधने के समय को लेकर असमंजस की स्थिति , जानिए कब मनाया जाएगा रक्षा बंधन?


इससे पहले इंदौर में एक कार्यक्रम के दौरान केंद्रीय मंत्री ने कहा था कि सरकार ने देश में सड़क हादसों की वजह से हर साल होने वाली करीब 1.5 लाख मौतों को 2024 तक घटाकर आधी करने का लक्ष्य तय किया है. उन्होंने कहा कि इस सिलसिले में करोड़ों रुपये खर्चकर ‘‘ब्लैक स्पॉट’’(वे स्थान जहां सबसे ज्यादा सड़क हादसे होते हैं) हटाने का काम जारी है. गैर सरकारी संगठन ‘जन आक्रोश’ के कार्यक्रम में गडकरी ने बताया कि देश में हर साल पांच लाख सड़क हादसों में करीब 1.5 लाख लोगों की मौत होती है, जबकि तीन लाख व्यक्ति गंभीर रूप से घायल हो जाते हैं.