इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च ने 2 होम बेस्ड रैपिड एंटीजन टेस्ट (RAT) किट को मंजूरी दी है। इनका इस्तेमाल केवल संक्रमण के लक्षण होने और संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में रहे लोग कर सकते हैं। आईसीएमआर ने माइलैब डिस्कवरी सॉल्यूशंस लिमिटेड के  पुणे के बनाए कोविसेल्फ (CoviSelf)  और शिकागो की एबट रेपिड डायग्नोस्टिक्स पैनबायो द्वारा विकसित कोविड-19 एंटीजन रैपिड टेस्ट डिवाइस (PanBio COVID-19 Antigen Rapid Test Device) को मंजूरी दी है। इसे 5 जुलाई तक प्रोविजनल अप्रूवल मिली है।

आईसीएमआर ने कहा कि, "अंधाधुंध टेस्टिंग की सलाह नहीं दी जाती है। यूजर मैनुअल के निर्देशों के अनुसार टेस्ट करना चाहिए। इसके द्वारा घर में टेस्ट केवल लक्षण होने और लैब में कंफर्म संक्रमित केस के संपर्क आने पर किया जाना चाहिए। " सभी पॉजिटिव व्यक्तियों को सलाह दी जाती है कि वे आईसीएमआर और स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय प्रोटोकॉल के अनुसार होम आइसोलेशन एंड केयर नियमों का पालन करें।

— कोवड-19 लक्षण वाले व्यक्ति टेस्ट निगेटिव होने पर आरटीपीसीआर टेस्ट कराएं
— कोरोना लक्षण वाले ऐसे व्यक्ति जिनका आरएटी में टेस्ट निगेटिव रहा उन्हें तुरंत आरटीपीसीआर टेस्ट करवाना चाहिए। यह विशेष रूप से महत्वपूर्ण है क्योंकि आरएटी में कम वायरल लोड वाले कुछ पॉजिटिव केस मिस होन की संभावना है।

किट का सही तरीके से डिस्पोज करने की सलाह
सभी आरएटी निगेटिव लक्षणों वाले व्यक्तियों को संदिग्ध कोविड -19 मामलों के रूप में माना जा सकता है और उन्हें आरटीपीसीआर टेस्ट रिजल्ट की प्रतीक्षा करते हुए आईसीएमआर या स्वास्थ्य मंत्रालय के होम आइसोलेशन प्रोटोकॉल का पालन करने की सलाह दी जाती है। यूजर मैनुअल में निर्माता द्वारा निर्धारित प्रोटोकॉल के अनुसार सभी रिजल्ट इंटरप्रेट किया जा सकता है। टेस्ट किट, स्वाब और दूसरी सामग्री के डिस्पोजल के लिए मैन्युफैक्चर के निर्देशों का कड़ाई से पालन किया जाना चाहिए।

देश में कोविड- 19 को डायग्नोस करने के लिए विभिन्न आरटीपीसीआर प्लेटफॉर्म का उपयोग कर रहा है। इस साल मई में आईसीएमआर की एडवाइजरी के अनुसार टोटल डेली नेशनल टेस्टिंग कैपिसिटी 15 लाख टेस्ट के करीब है।