अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) ने भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड को यह तय करने के लिए 28 जून तक का समय दिया है कि वह अक्टूबर नवम्बर में टी-20 विश्व कप का आयोजन करा सकता है या नहीं। आईसीसी ने मंगलवार को अपनी बोर्ड बैठक में यह फैसला किया। 

समझा जाता है कि आईसीसी टी-20 विश्व कप को संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) में कराने की तरफ झुक रही है और उसने ओमान के रूप में मध्य पूर्व में एक सह मेजबान और ढूंढा है यदि टूर्नामेंट को भारत से बाहर ले जाया जाता है। आईसीसी बोर्ड ने भारतीय बोर्ड के अध्यक्ष सौरभ गांगुली से समय बढ़ाने के लिए आग्रह मिलने के बाद बीसीसीआई को 28 जून तक का समय दिया है ताकि वह यह तय कर ले कि क्या वे विश्व कप की मेजबानी कर सकते हैं या नहीं।

आतंरिक रूप से आईसीसी बोर्ड ने यह निष्कर्ष निकाला है कि टूर्नामेंट को यूएई में कराना ज्यादा सुरक्षित होगा जबकि बीसीसीआई के पास मेजबानी अधिकार रहेंगे। आईसीसी ने मंगलवार को जारी एक मीडिया बयान में कहा,''आईसीसी बोर्ड ने अपने प्रबंधन से पुरुष टी-20 विश्व कप को यूएई में कराने की योजनाओं पर ध्यान केंद्रित करने के लिए कहा है। हालांकि मेजबान देश का निर्णय इस महीने बाद में लिया जाएगा। बोर्ड यह भी पुष्टि करता है कि बीसीसीआई टूर्नामेंट का मेजबान रहेगा चाहे टूर्नामेंट कहीं भी खेला जाए।''