एक शख्स ने महज चंद पैसों के लिए भाई बनकर अपनी ही पत्नी की शादी किसी दूसरे व्यक्ति से करवा दी। पीड़ित ने महिला, उसके पति और दलाल के खिलाफ थाने में केस दर्ज करवा दिया जिसके बाद पुलिस ने आरोपियों को धोखाधड़ी के आरोप में गिरफ्तार कर लिया। यह अनोखा मामला राजस्थान के कोटा का है।

मामला कोटा के कुन्हाड़ी थाना क्षेत्र का है। दरअसल वहां रवि काली नाम के एक युवक की शादी नहीं हो रही थी तो उसके किसी रिश्तेदार ने बताया कि देवराज नाम का शख्स उसकी शादी करवा देगा।

इसके बाद रवि देवराज से मिला और शादी की बात की तो उसने बताया कि उसके सगे-संबंधी इंदौर में रहते हैं जहां वो उसकी शादी करवा देगा। हालांकि इसके लिए देवराज ने 1 लाख 80 हजार रुपये देने की मांग की जिसके लिए रवि तैयार हो गया।

इसके बाद देवराज ने इंदौर में रवि की शादी कोमल नाम की लड़की से कोर्ट में करवा दी और उससे 1 लाख 80 हजार रुपये ले लिए। शादी के बाद रवि अपनी पत्नी को लेकर घर आ गया। रवि की पत्नी कोमल ने दो दिनों बाद अपने भाई सोनू से मिलने की इच्छा जताई जिस पर उसके पति ने उसे बुला लिया।

रवि के घर पहुंचते ही सोनू ने कोमल को देखकर बताया कि ये उसकी पत्नी है और वो पहले से शादीशुदा है। इतना ही नहीं उसने ये भी बताया कि वो उसके बच्चों की मां भी है। यह सुनकर रवि के पैरों तले जमीन खिसक गई और उसे अपने साथ हुई ठगी का एहसास हुआ।

रवि ने थाने में जाकर दलाल देवराज अपनी पत्नी कोमल और उसके कथित भाई सोनू के खिलाफ शिकायत दर्ज करवा दी। जब पुलिस ने मामले की जांच की सच्चाई जानकर रवि भी चौंक गया। दरअसल जिस सोनू को वो अपनी पत्नी का भाई समझ रहा था असल में वो कोमल का पति निकला।

पुलिस जांच में सामने आया कि दलाल देवराज ने कोमल और सोनू के साथ मिलकर रवि को ठगने का प्लान बनाया था। यही वजह है कि कोमल के पति को ही उसका भाई बनाकर उससे रवि की शादी करवा दी गई और उसके बदले पैसे ऐंठ लिए।

पुलिस ने तीनों आरोपियों को धोखाधड़ी के आरोप में गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।