पूर्वोत्तर राज्य त्रिपुरा के पश्चिम त्रिपुरा जिले में बुधवार की रात आई आंधी और बारिश के कारण सैकड़ों मकान तबाह हो गए, कई पेड़ टूट गए और बिजली के तार टूट गए। आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के प्रमुख राज्य परियोजना अधिकारी सरत दास ने बताया कि अगरतला नगर निगम के तहत आने वाले कई इलाकों में जलभराव हो गया है।


उन्होंने ने कहा आंधी एवं बारिश के कारण कुल 382 मकान क्षतिग्रस्त हो गए हैं। उन्होंने कहा, मुख्य सचिव एल. के. गुप्ता और अन्य वरिष्ठ अधिकारियों ने स्थिति की समीक्षा की है और जिन क्षेत्रों में पानी भर गया है, वहां से पानी निकालने के लिए आवश्यक कार्रवाई करने का निर्देश दिया है। अधिकारी ने बताया कि पेड़ों के टूटकर गिरने से बिजली के तार टूट गए थे। उनकी मरम्मत कर दी गई है।

मुख्यमंत्री कार्यालय ने एक बयान में कहा कि सरकार स्थिति पर करीबी नजर रख रही है और मुख्यमंत्री बिप्लब देब ने विद्युत आपूर्ति तेजी से बहाल करने के लिए अधिकारियों से बात की है। मौसम विज्ञान विभाग के अधिकारियों ने बताया कि शहर में बुधवार रात काल बैसाखी (नार्वेस्टर हवा) के कारण आंधी एवं बारिश आई। ऐसी आंधी अगले महीने मानसून आने तक जारी रहेगी। मौसम विज्ञान विभाग के अधिकारी सुदीप देब ने कहा, राज्य में बुधवार को 19.9 मिमी बारिश दर्ज की गई।