सितंबर में कोरोना की तीसरी लहर की चेतावनी से लोग चिंतित हैं। इधर स्वास्थ्य विभाग ने जिले में कोरोना जांच की रफ्तार कम कर दी है। पहले जहां प्रतिदिन 15 सौ से 2 हजार जांचें हो रही थीं लेकिन पिछले दस दिन में औसतन यह आधी हो गई हैं। जिससे लोगों की चिंता और बढ़ने लगी है। बीते चार पांच दिन में मेडिकल कॉलेज के 19 एमबीबीएस छात्रों व कुछ कर्मचारियों के कोरोना पॉजिटिव आने के बाद जिले में एकाएक कोरोना मरीजों की संख्या बढ़ गई है।

जिसके बाद से मेडिकल कॉलेज प्रशासन एमबीबीएस के छात्रों, नर्सिंग कॉलेज की छात्राओं समेत कॉलेज से जुड़े हर सदस्य की कोरोना की जांच करा रहा है। इधर जिले भर में होने वाली कोरोना की जांच की रफ्तार बहुत ही कम हो गई है। आपको बता दें कि उत्तराखंड में मंगलवार को कोरोना के 28 नए मरीज मिले। इसके साथ ही राज्य में कुल मरीजों की संख्या तीन लाख 42 हजार 976 हो गई है। 24 मरीजों को इलाज के बाद डिस्चार्ज किया गया जिससे ठीक होने वाले मरीजों की संख्या तीन लाख 29 हजार 183 हो गई है।

राज्य के अस्पतालों में अब महज 354 एक्टिव मरीज रह गए हैं। नैनीताल में में 10 साल के एक बच्चे में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई है। बच्चे को हल्द्वानी एसटीएच रेफर कर दिया है। स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी हेल्थ बुलेटिन के अनुसार मंगलवार को 17 हजार से अधिक सैंपलों की रिपोर्ट नेगेटिव आई जबकि 28 लोगों में संक्रमण की पुष्टि हुई।

देहरादून, नैनीताल में सर्वाधिक छह, पौड़ी में चार, अल्मोड़ा, चमोली में तीन तीन, यूएस नगर में दो जबकि बागेश्वर, हरिद्वार, पिथौरागढ़ और रुद्रप्रयाग में एक एक नया मरीज मिला है। चम्पावत, टिहरी और उत्तरकाशी में एक भी नया मरीज नहीं मिला है। मंगलवार को 18 हजार से अधिक सैंपल जांच के लिए भेजे गए हैं। मंगलवार के बुलेटिन में छह मरीजों की मौत के आंकड़े शामिल किए गए हैं।

हल्द्वानी जिले में कोरोना के छह नए मरीज मिले हैं। 405 लोगों की रिपोर्ट का इंतजार किया जा रहा है। एसीएमओ डॉ. रश्मि पंत ने बताया कि मरीजों के संपर्क में आए लोगों की सैंपलिंग कराई जा रही है। उधर, मेडिकल कॉलेज हल्द्वानी में सैंपलिंग जारी है। मंगलवार को सैंपल लेने के लिए एक टीम मेडिकल कॉलेज पहुंची। जहां पर 76 लोगों के सैंपल लिए गए। प्राचार्य डॉ. अरुण जोशी ने बताया कि सभी कोरोना मरीजों की हालत में सुधार है। उधर नैनीताल में 10 साल का बच्चा संक्रमित मिला है। बीडी पांडे अस्पताल के पीएमएस डॉ. केएस धामी ने बताया कि पेट दर्द होने पर सोमवार को उसे भर्ती कर दिया था। मंगलवार को उसका दोबारा ट्रू नेट टेस्ट किया गया तो वह कोरोना संक्रमित पाया गया। कोरोना की पुष्टि के बाद एसटीएच रेफर कर दिया है। वह भीमताल का रहने वाला है।