कई बार खाने पीने की आदतों और लाइफस्टाइल की दिक्कतों की वजह से हमें सीने या गले में जलन होती है. इस परेशानी को इंग्लिश में हार्टबर्न या एसिड रिफ्लक्स का जाता है. ये एक आम समस्या है, लेकिन समय रहते इसका समाधान करना बेहद जरूरी है, वरना बाद में इसकी वजह से कई तरह की परेशानियां पेश आ सकती है. लेकिन क्या आप जानते हैं कि सोने की गलत आदतों की वजह से भी ऐसी दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है.

यह भी पढ़े : कार्तिक पूर्णिमा को लगने वाला है चंद्र ग्रहण, इन राशि वालों की खुलेगी किस्मत, जानिए किसके लिए रहेगा भारी

ये होता है एसिड रिफ्लक्स

एसिड रिफ्लक्स या हार्ट बर्न डाइजेशन से जुड़ी एक परेशानी है जिसमें जो एसिड हमारे भोजन को पचाने के लिए होते हैं वो फूड पाइप यानी ओएसोफेगस के जरिए हमारे गले तक आ जाता है, जो परेशानी पैदा करता है. 

-एसिड रिफ्लक्स के मुख्य लक्षण

-पेट का एसिड गले तक आना

-गले में खट्टापन महसून होना

-सीने या गले में जल का अहसान

-भोजन निगलने में दिक्कत होना

गले में क्यों होती है जलन?

हमारे पेट में फूड को डाइजेस्ट करने के लिए एसिड रिलीज होते हैं जो पाचन रस के तौर पर भी जाने जाते है, जब भोजन फूड पाइप ये पेट की तरफ जाने लगता है तो इसोफेजियल स्फिंक्चर नामक एक वाल्व खुलती है और भोजन स्टोमेक में पहुच जाता है. जब एसिड की मात्रा ज्यादा हो जाती है तो ये वापस फूड पाइप से गले की तरफ जाने लगता है जिससे हार्ट बर्न की समस्या होती है.

यह भी पढ़े : Aaj ka Rashifal November 4: इन राशि वालों के लिए समय ख़राब , बहुत बचकर चले , ये लोग सूर्यदेव को जल अर्पित करें

ऐसे सोने से होती है दिक्कत

गले में जलन का रिश्ता आपके स्लीपिंग पोस्चर से जुड़ा है, अगर आप पेट या पीठ के बल ज्यादा सोते हैं तो इससे एसिड रिफलक्स की संभावनाएं काफी ज्यादा बढ़ जाती है. इसलिए ज्यादातर हेल्थ एक्सपर्ट का मानना है कि आप करवट ले कर ही सोएं, ताकि ऐसी परेशानियों से बचा जा सके.