हींग का तड़का भोजन का स्वाद बढ़ाने के साथ ही सेहत को दुरूस्त रखती है। हींग का प्रयोग आयुर्वेद चिकित्‍सा के दौरान कई औषधियों का निर्माण करने के लिए भी किया जाता है। लेकिन कई रोगों को दूर करने वाली हींग अगर असली न हो तो यह आपकी सेहत को नुकसान भी पहुंचा सकती है। ऐसे में यह जान लेना आवश्यक है कि बाजार से खरीदते समय उसके असली और नकली होने की पहचान कैसे करें— जानिए तरीका...

-असली हींग को पानी में घोलते ही पानी का रंग दूध की तरह सफेद हो जाता है। अगर ऐसा न हो तो समझ जाएं की हींग नकली है।

-हींग को जलाकर भी उसके असली और नकली होने का पता लगाया जा सकता है। असली हींग जलाने पर उसकी लौ चमकदार होगी और वह आसानी से जल जाएगी। लेकिन नकली हींग आसानी से जलती नहीं है।

-असली हींग एक बार हाथ में ली जाए तो साबून से हाथ धोने पर भी काफी देर तक उसकी महक आती रहती है। मगर नकली हींग की महक पानी से हाथ धोने पर ही चली जाती है।

हींग का रंग
असली हींग का रंग हल्‍का भूरा होता है। हींग की असली पहचान करने के लिए आपको उसे घी में डालना चाहिए। घी में हींग डालते ही वह फूलने लगती है और उसका रंग हल्‍का सा लाल हो जाता है। यदि हींग में ऐसा बदलाव और रंग नजर नहीं आ रहा है तो वह नकली है।