पिम्पल्स का इलाज करना आसान नहीं है क्योंकि कभी-कभी पिम्पल्स से छुटकारा दिलाने का दावा करने वाले प्रॉडक्ट्स हमें डबल पिम्पल्स दे जाते हैं। घरेलू नुस्खे भी बहुत ही सोच-समझकर इस्तेमाल करने चाहिए। जैसे, मुल्तानी मिट्टी का फैस पैक लगाते हुए भी कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए, वरना इससे पिम्पल्स ठीक होने की बजाय और पिम्पल्स हो जाते हैं।
ऐसे लगाएं मुल्तानी मिट्टी
-मुल्तानी मिट्टी और कपूर से बने इस पैक को आपको अपने चेहरे पर मात्र 15 मिनट के लिए लगाना होगा। कपूर की एंटिबैक्टीरियल क्वालिटीज होती हैं। कपूर की खुशबू और रासायनिक गुण बैक्टीरिया और संक्रमण फैलानेवाली सभी तरह के रोगाणुओं को मारने का काम करता है। तो मुल्तानी मिट्टी आपकी त्वचा में कसावट लाती है। इससे आपकी त्वचा में झुर्रियां, फाइन लाइन्स और दाग-धब्बे टिक नहीं पाते हैं।

-एक कटोरी में 2 बड़े चम्मच मुल्तानी मिट्टी लें। कपूर की 1 क्यूब (टुकड़ा या पीस) पीसकर डाल दें। अब इसमें 1 चम्मच गुलाब जल मिलाएं। सभी सामग्री को अच्छी तरह मिला लें। आपका फेस पैक तैयार है। अब इस पैक को चेहरे पर लगाने से पहले चेहरा साफ पानी से धोकर अच्छी तरह साफ कर लें।

- अब फेस पैक को पूरे चेहरे पर लगाएं। इस पैक को आप हाथों और पैरों की रंगत निखारने के लिए भी उपयोग कर सकते हैं। मात्र 15 मिनट के लिए पैक को त्वचा पर लगाकर छोड़ दें, फिर अपने चेहरे को गुनगुने पानी से धो लें और एक साफ कपड़े से पोंछ लें। फिर मॉइस्चराइजर लगा लें।

मुल्तानी मिट्टी ऐसे न लगाएं
-मुल्तानी मिट्टी में नींबू का रस डालने से बचना चाहिए, मुल्तानी मिट्टी में नींबू का रस डालने से आपको चेहरे पर खुजली हो सकती हैं। खासतौर पर स्किन पर मुल्तानी मिट्टी सूखने के बाद खुजली बढ़ जाती है। खुजाने से पिम्पल्स होने का खतरा बढ़ जाता है।

-मुल्तानी मिट्टी को सूखने के बाद भूलकर भी न रगड़े। मुल्तानी मिट्टी को पानी से हल्के हाथों से धोएं।

-मुल्तानी मिट्टी लगाने के बाद चेहरा ड्राई हो जाता है इसलिए इसे धोने के बाद कोई जेल या क्रीम चेहरे पर जरूर लगाएं।