सरकार ने अब नया ऐलान किया है कि घोड़ा मालिकों को भी थर्ड पार्टी इंश्योरेंस कराना अनिवार्य है। यह आदेश दिल्ली में जारी किया गया है जहां शादी और अन्य कार्यक्रमों में उपयोग होने वाली घोड़ा, बग्गी के लिए अब थर्ड पार्टी इंश्योरेंस लेना अनिवार्य हुआ है। दक्षिण दिल्ली नगर निगम (एसडीएमसी) की स्थायी समिति ने इस संशोधन नीति को मंजूरी दी है। अन्य दो नगर निकायों के अधिकारियों ने भी कहा कि वे जल्द ही इस नियम को अपने यहां भी लागू कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें : चांद सी निखर जाती है पोटलोई ड्रेस पहनने वाली दुल्हन, जानिए मणिपुरी कैसे करते हैं इसें तैयार


एसडीएमसी ने यह आदेश दिल्ली सरकार के शहरी विकास विभाग द्वारा पिछले साल दिसंबर में जारी निर्देशों के बाद जारी किया है। पिछले साल स्थानीय अदालत ने तेज रफ्तार घोड़ों की चपेट में आने से एक व्यक्ति की मौत होने के मामले की सुनवाई करते हुए इनका बीमा करने का आग्रह किया था।

कोर्ट के कहने के बाद स्थायी समिति की बैठक में कहा गया कि यह मामला नगर निकाय से जुड़ा हुआ है। इसलिए निगम घोड़े बग्गी व घोड़ियों को लाइसेंस लेने और थर्ड पार्टी का बीमा कराने की योजना लेकर आई है। समिति ने कहा कि अगर घोड़ा बग्गी से दुर्घटना में कोई मौत होती है तो थर्ड पार्टी को बीमा की रकम मुआवजा स्वरूप मिल सके, इसलिए यह प्रस्ताव लाया गया है।

यह भी पढ़ें : अरुणाचल में है दुनिया का सबसे ऊंचा प्राकृतिक शिवलिंग, आकार देखकर दंग रह जाते हैं लोग


एसडीएमसी की स्थायी समिति के अध्यक्ष बीके ओबेरॉय ने कहा कि दिल्ली में अभी तक औपचारिक या अन्य व्यावसायिक उद्देश्यों में इस्तेमाल होने वाले घोड़ों, घोड़ी या घोड़े की बग्गी का थर्ड पार्टी बीमा लेने का कोई प्रावधान नहीं था। ओबेरॉय ने कहा, लेकिन अब घोड़ों, घोड़ी और घोड़ों की बग्गी का थर्ड पार्टी बीमा लेना उनके मालिकों और ऑपरेटरों के लिए लाइसेंस लेना अनिवार्य कर दिया गया है। इस शर्त को पूरा नहीं करने पर निगम द्वारा लाइसेंस रद्द कर दिया जाएगा।

पशु चिकित्सा विभाग द्वारा बुधवार को एसडीएमसी की स्थायी समिति में पेश किए गए प्रस्ताव को द्वारा मंजूरी देने वाली नीति में कहा गया है कि वैवाहिक उद्देश्यों के लिए उपयोग किए जाने वाले सभी घोड़ा बग्गी के लिए थर्ड पार्टी बीमा अनिवार्य है, और लाइसेंस देते या उसका नवीनीकरण करते समय पशु चिकित्सा विभाग को यह सुनिश्चित करने के लिए कहा गया है कि यह क्रम में हो।