अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) के निदेशक - डॉ रणदीप गुलेरिया ने कहा है कि इस साल सितंबर तक बच्चों के लिए एक कोविड -19 वैक्सीन की उम्मीद की जा सकती है। सितंबर तक बच्चों के लिए वैक्सीन की उम्मीद, दिल्ली एम्स के निदेशक डॉ रणदीप गुलेरिया ने इंडिया टुडे टीवी को बताया। उन्होंने कहा कि भारत बायोटेक निर्मित कोवैक्सीन  वैक्सीन को सितंबर तक बच्चों के लिए मंजूरी मिलने की संभावना है।


डॉ गुलेरिया ने कहा कि "बच्चों के लिए कोवैक्सिन के परीक्षण के दूसरे और तीसरे चरण के पूरा होने के बाद, परीक्षण डेटा सितंबर तक उपलब्ध कराया जाएगा और उसी महीने वैक्सीन को मंजूरी मिलने की संभावना है।" इस महीने की शुरुआत में देश के विभिन्न चिकित्सा संस्थानों में बच्चों पर कोवैक्सीन  परीक्षण शुरू हुआ ताकि यह पता लगाया जा सके कि वैक्सीन जैब बच्चों के लिए उपयुक्त है या नहीं।

दिल्ली एम्स ने 7 जून को इन परीक्षणों के लिए बच्चों की स्क्रीनिंग शुरू की और इसमें 2 से 17 वर्ष की आयु के बच्चे शामिल हैं। 12 मई को, भारत के औषधि महानियंत्रक ने भारत बायोटेक को दो साल से कम उम्र के बच्चों पर कोवैक्सिन के चरण 2, चरण 3 के परीक्षण करने की अनुमति दी थी। इससे पहले, दिल्ली एम्स के निदेशक  डॉ रणदीप गुलेरिया ने भविष्यवाणी की थी कि कोविड-19 महामारी की तीसरी लहर छह से आठ सप्ताह में भारत में आने की संभावना है।