कोरोना वायरस अभी पूरी दुनिया में तबाही मचा रहा और धड़ाधड़ लोगों की लाशें बिछा रहा है। इसी बीच राहतभरी खबर आई है है कि अब इससे बचा जा सकता है। जी हां, कोरोना को ठीक करने की दवा तो फिलहाल नहीं बन पायी है लेकिन इससे बचने का तरीका खोज निकाला गया है। यह तरीका है होम क्वारंटाइन। इस तकनीक के जरिए कोरोना आपको छू भी नहीं सकता है। 

ये होता है होम क्वारंटाइन

होम क्वारंटाइन का मतलब घर पर अपने आप को दूसरे लोगों से अलग कर लेना है। अगर आपको कोरोना वायरस से संक्रमित होने का संदेह है या फिर सर्दी-जुकाम है तो आप एक कमरे में अपने आप को अलग कर लें। इससे आपके परिवार में किसी को वायरस नहीं फैलेगा। 

क्वारंटीन लैटिन मूल का शब्द है। इसका मूल अर्थ चालीस दिन का समय है। इसका मतलब संगरोध, संगरोधन, किनारे पर आने-जाने से रोकना और अस्पताल का अलग कमरा भी है। दरअसल, पुराने समय में जिन जहाजों में किसी यात्री के रोगी होने या जहाज पर लदे माल में रोग प्रसारक कीटाणु होने का संदेह होता तो उस जहाज को बंदरगाह से दूर चालीस दिन ठहरना पड़ता था। ग्रेट ब्रिटेन में प्लेग को रोकने के प्रयास के रूप में इस व्यवस्था की शुरुआत हुई थी।

ऐसे करें क्वारंटाइन

-होम क्वारंटाइन के लिए एक हवादार कमरा हो, जिसमें टॉयलेट भी हो।

-अगर उस कमरे में अन्य परिजन हो, तो दोनों में एक मीटर की दूरी हो।

-दोनों शख्स घर के अन्य बुजुर्गों, गर्भवतियों और बच्चों से दूर रहें।

-वायरस संदिग्ध मरीज किसी भी समारोह, शादी, पार्टी में 14 दिन या जब तक स्वस्थ न हो जाएं तब तक हिस्सा न लें।

-साबुन से हाथ धोएं और अल्कोहल बेस्ड हैंड सैनेटाइजर का इस्तेमाल करें।

-घर में खुद से पानी, बर्तन, तौलिए और अन्य किसी चीज को न छुएं?

-सर्जिकल मास्क लगाकर रहें। हर 6-8 घंटे में मास्क बदलें। इनका निस्तारण सही से करें। 

अब हम twitter पर भी उपलब्ध हैं। ताजा एवं बेहतरीन खबरों के लिए Follow करें हमारा पेज : https://twitter.com/dailynews360